Assam में बाढ़ का प्रकोप जारी, एक की मौत, 1.89 लाख लोग प्रभावित

  • Assam में एक बार फिर बाढ़ का कहर जारी
  • Flood के कारण एक और की मौत, 1.89 लाख लोग प्रभावित
  • असम ( Flood in Assam ) के नौ जिलों में बाढ़ का प्रकोप, 492 गांव प्रभावित

नई दिल्ली। पूरा देश इन दिनों कोरोना वायरस ( coronavirus in India ) की मार झेल रहा है। वहीं, पूर्वोत्तर राज्य ( North East Satate ) असम ( Assam ) बाढ़ ( Flood ) का कहर जारी है। राज्य के नौ जिले बाढ़ ( Flood in Assam ) की चपेट में आ गए हैं। वहीं, अब तक 1.89 लाख लोग प्रभावित हुए हैं। जबकि, मरने वालों का आंकड़ा 15 पहुंच चुका है।

चार और जिले बाढ़ की चपेट में

जानकारी के मुताबिक, गुरुवार को राज्य में बाढ़ ( Assam Flood ) की स्थिति और भयाहव हो गई और चार नए जिलों को अपनी चपेट में ले लिया है। बताया जा रहा कि तेज बारिश ( Heavy Rains ) के कारण बाढ़ का खतरा और बढ़ता ही जा रहा है। रिपोर्ट के मुताबिक, धेमाजी ( Dhemaji ) जिले में बाढ़ से एक और शख्स की मौत हो गई है। इस तरह से राज्य में बाढ़ से अब तक 15 लोगों की मौत हो चुकी है, जबकि 1.89 लाख अब तक प्रभावि हो चुके हैं। मौसम विभाग का कहना है कि अगले पांच दिनों राहत के कोई आसार नहीं है। विभाग का कहना है नॉर्थ-ईस्ट के सभी सात राज्यों में जमकर बारिश होगी और बिजली चमकेगी।

वहीं, असम आपाद प्रबंध विभाग ( Assam State Disaster Management Authority ) का कहना है कि अब तक नौ जिले के 492 गांव बाढ़ की चपेट में आ चुके हैं। इनमें धेमाजी ( Dhemaji), लखीमपुर ( Lakhimpur), विश्वनाथ (, Biswanath ), गोलाघाट (Golaghat), जोरहट (Jorhat), मजूली ( Majuli), सिबसागर (Sibsagar), डिब्रूगढ़ ( Dibrugarh ) और तिनसुकिया ( Tinsukia) शामिल हैं। विभाग का कहना है कि 11,430 लोगों को अब सुरक्षित स्थानों पर पहुंचा जा चुका है। पांच जिलों मेॆं 49 राहत कैंप बनाए गए हैं। इनमें धेमाजी, सिबसागर, विश्वनाथ, डिब्रूगढञ और तिनसुकिया जिले शामिल हैं। रिपोर्ट में ये भी कहा है कि 19, 430 हेक्टर एरिया में बाढ़ के कारण फसल बर्बाद हो गई है।

CM ने दिए राहत-बचाव कार्य के आदेश

इसके अलावा Lakhimpur, Biswanath, Majuli, Tinsukia, Chirang और Dibrugarh जिले में कई जगहों सड़कें, पुल, ब्रिज बाढ़ के कारण बर्बाद हो गई है। वहीं, बाढ़ के कारण कई नदियों में जलस्तर भी बढ़ गया है। ब्रह्मपुत्र नदी में पानी का स्तर खतरे के निशान से ऊपर पहुंच चुका है। इधर, मामले की गंभीरता को देखते हुए राज्य के मुख्यमंत्री सर्बानंद सोनोवाल ( Sarbananda Sonowal ) ने जिलों के अधिकारियों को निर्देश दिया है कि वे तुरंत बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों में पहुंचे और राहत-बचाव का कार्य करें। साथ ही COVID-19 को लेकर जो गाइडलाइंस जारी किए गए हैं, उसका भी ध्यान रखें।

Show More
Kaushlendra Pathak Content
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned