scriptmost of the bullet train contracts with Japanese companies | उठे ‘मेक इन इंडिया’ नीति पर सवाल, बुलेट ट्रेन के अधिकतर ठेके जापानी कंपनियों के पास | Patrika News

उठे ‘मेक इन इंडिया’ नीति पर सवाल, बुलेट ट्रेन के अधिकतर ठेके जापानी कंपनियों के पास

11 लाख करोड़ रुपए के बुलेट ट्रेन प्रोजेक्ट के लिए कॉन्ट्रैक्ट हासिल करने में जापान की स्टील और इंजीनियरिंग की कंपनियां सबसे आगे चल रही हैं।

नई दिल्ली

Published: January 18, 2018 06:41:09 pm

नई दिल्ली : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जब से सत्ता में आए हैं, वह उनके एजेंडे में सबसे ऊपर मेक इन इंडिया का नारा रहा है। लेकिन अगर बुलेट ट्रेन प्रोजेक्ट की बात करें तो इसमें भारतीय कंपनियां पिछड़ती हुई नजर आ रही हैं। इसे मोदी सरकार के मेक इन इंडिया नीति के लिए एक बड़ा झटका माना जा रहा है। इस प्रोजेक्ट के अधिकतर ठेके जापानी कंपनियों को मिली है। सूत्रों के मुताबिक करीब 11 लाख करोड़ रुपए के बुलेट ट्रेन प्रोजेक्ट के लिए कॉन्ट्रैक्ट हासिल करने में जापान की स्टील और इंजीनियरिंग की कंपनियां सबसे आगे चल रही हैं।
make in india
पीएमओ ने नहीं की कोई टिप्पणी
गौरतलब है कि मोदी सरकार को 2019 में आम चुनाव में जाना है। फिलहाल सरकार पर देश में करोड़ों बेरोजगार युवाओं के लिए नई नौकरियों के सृजन का बेहद दबाव है। ऐसे में बुलेट ट्रेन के प्रोजेक्ट के अधिकतर प्रोजेक्ट का ठेका जापानी कंपनियों मिलना मोदी सरकार की मेक इन इंडिया नीति पर सवाल उठाता है। इससे एक बार फिर मोदी सरकार के आलोचकों को यह कहने का मौका मिल गया है कि बुलेट ट्रेन जैसे प्रोजेक्ट्स से पैसों की बर्बादी हो रही है और इसका फायदा भी न भारतीय युवाओं को मिल पर रहा है और न ही भारतीय कंपनियों को। इसका इससे कहीं अधिक बेहतर इस्तेमाल किया जा सकता था।
मामले की जानकारी रखने वाले 5 सूत्रों ने बताया कि इस प्रोजेक्ट की सबसे अधिक फंडिंग जापान कर रहा है और रेल लाइन के लिए कम से कम 70 फीसदी स्टील की सप्लाई भी जापानी कंपनियों की तरफ से ही की जा रही है। इस मामले पर पीएमओ कोई भी टिप्पणी करने से मना कर दिया। नाम न बताने की शर्त पर जापान के परिवहन मंत्रालय के एक अधिकारी ने बताया कि दोनों देश फिलहाल जरूरी सामान की सप्लाई पर बातचीत कर रहे हैं। जुलाई तक पूरी योजना की जानकारी सामने आने की उम्मीद है।
मेक इन इंडिया पर जोर देने की थी बात
सितंबर 2017 में भारत और जापान के बीच बुलेट ट्रेन को लेकर जब एग्रीमेंट हुआ था तो उसमें ‘मेक इन इंडिया’ को बढ़ावा देने के और ‘ट्रांसफर ऑफ टेक्नोलॉजी’ के प्रावधान को शामिल किया गया था। मोदी सरकार का मानना था कि तकनीक के हस्तांतरण के चलते भारत में मैन्युफैक्चरिंग सुविधाएं स्थापित की जा सकेंगी और इससे देश में नौकरियों के अवसर भी पैदा होंगे और तकनीक के लिहाज से भी भारत समृद्ध हो सकेगा।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

पीएम मोदी आज ब्रह्मकुमारियों के 'आजादी का अमृत महोत्सव से स्वर्णिम भारत की ओर' अभियान श्रृंखला का शुभारम्भ करेंगेओमिक्रोन वायरस के इलाज में कौन सी दवा है सही, जानिए WHO की गाइडलाइनIND vs SA: साउथ अफ्रीका ने 31 रनों से जीता पहला वनडे, ये है भारत की हार का सबसे बड़ा कारण‘बुल्ली बाई’ ऐप के बाद अब ‘क्लब हाउस’ चैट में मुस्लिम महिलाओं को बनाया निशाना, महिला आयोग ने दिल्ली पुलिस को भेजा नोटिसटोक्यो पैरालंपिक में Gold Medal लाने वाली अवनी लेखारा तक पहुंची खास XUV700, आनंद महिंद्रा ने कहा 'Thank You'दो बाइकों की आमने-सामने भिड़ंत में दो युवकों की मौके पर मौत, खून से लथपथ शव देखकर राहगीरों ने दी पुलिस को सूचनाआयकर दायरा बढ़े, जीएसटी घटाएं-मेहतासेना में भर्ती की तैयारी के दौरान लिया संकल्प, जम्मूकश्मीर से कन्याकुमारी तक करेगा पैदल यात्रा
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.