चमकी बुखार: बच्चों की मौत का बढ़ा आंकड़ा, मुजफ्फरपुर में अब तक 142 की मौत

चमकी बुखार: बच्चों की मौत का बढ़ा आंकड़ा, मुजफ्फरपुर में अब तक 142 की मौत

  • Muzaffarpur Chamki Bukhar 142 बच्चों की मौत
  • Sri Krishna Medical College Hospital में 121 बच्चों की गई जान
  • Kejriwal Hospital में 21 बच्चों की थमी सांसे

नई दिल्ली। बिहार ( Bihar ) में चमकी बुखार ( chamki bukhar ) यानी एक्यूट इंसेफ्लाइटिस सिंड्रोम ( aes ) का कहर शांत नहीं हुआ है। बच्चों की मौत का सिलसिला अभी भी जारी है। चमकी का असर सबसे ज्यादा मुजफ्फरपुर ( Muzaffarpur ) में देखने को मिला है। मुजफ्फरपुर में बच्चों की मौत ( Muzaffarpur Chamki Bukhar ) का आंकड़ा 142 तक पहुंच गया है। जानकारी के मुताबिक श्रीकृष्ण मेडिकल कॉलेज में 121 और केजरीवाल हॉस्पिटल में 21 बच्चों की मौत हुई है।

चमकी से प्रभावित हैं ये इलाके

बता दें कि चमकी के सबसे ज्यादा मामले मुजफ्फरपुर ( Muzaffarpur chamki bukhar ) से सामने आए हैं। इसके अलावा राज्य के पूर्वी चंपारण, वैशाली, समस्तीपुर, सीतामढ़ी, भागलपुर, भोजपुर, दरभंगा, गया, जहानाबाद, पटना , पूर्णिया, शिवहर, सुपौल, औरंगाबाद, बांका, बेगूसराय, भागलपुर, किशनगंज, नालंदा और पश्चिमी चंपारण जैसे इलाकों में भी चमकी का कहर देखने को मिला है।

 

chamki

ज्यादा बारिश से चमकी का उपचार!

इस जंगली बीमारी के बारे में अभी तक डॉक्टरों को ज्यादा कुछ पता नहीं चल पाया है। कई डाक्टरों ने इसके पीछे की वजह गर्मी को बताया है। ऐसा माना जा रहा है कि चमकी बुखार के प्रकोप से रोकथाम में दवाओं से ज्यादा बारिश ( rain ) कारगर होगी। वहीं, इसके लिए लीची ( bihar Lychee ) को भी जिम्मेदार ठहराया जा रहा है।

 

rain

दरअसल, लीची में प्राकृतिक रूप से Hypoglycin A और methylenecyclopropylglycine (MPCG) पाए जाते हैं। ये पदार्थ शरीर में फैटी ऐसिड मेटाबॉलिज्म बनने में रुकावट पैदा करते हैं। इससे ब्लड-शुगर लो लेवल में चला जाता है। इसके बाद मस्तिष्क संबंधी दिक्कतें शुरू हो जाती हैं।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned