10 साल बाद किताबों को अपडेट करने की तैयारी में NCERT, जानें क्या होंगे बदलाव

mohit1 sharma

Publish: Sep, 17 2017 09:53:51 (IST) | Updated: Sep, 17 2017 09:57:51 (IST)

Miscellenous India
10 साल बाद किताबों को अपडेट करने की तैयारी में NCERT, जानें क्या होंगे बदलाव

NCERT की ओर से किताबों में यह अपडेट पूरे 10 साल बात किया जाएगा। अभी जो पाठ्यपुस्तकें चल रही हैं, उनमें प्रस्तावना 30 नवंबर, 2007 की है।

नई दिल्ली। एनसीईआरटी अपनी पाठ्यपुस्तकों को अपडेट करने की तैयारी में जुट गया है। एनसीईआरटी की ओर से किताबों में यह अपडेट पूरे 10 साल बात किया जाएगा। बता दें कि अभी जो पाठ्यपुस्तकें चल रही हैं, उनमें प्रस्तावना 30 नवंबर, 2007 की है। अब जब कि अगली जनगणना में लगभग 3 साल से का ही समय शेष है, ऐसे में एनसीईआरटी 8वीं कक्षा की सामाजिक विज्ञान की किताबों में भारतीय साक्षरता से जुड़े जो आंकड़े दिए गए हैं, वो 2001 के अनुसार हैं। इसके अलावा देश में आवास, बिजली और पाइप से सप्लाई होने वाले पानी से जुड़े आंकड़े 1994 में प्रकाशित आंकड़ों पर आधारित हैं।

182 किताबों को करेगा अपडेट

बता दें कि एनसीईआरटी अपनी लगभग 182 किताबों को अपडेट करेगा। इन किताबों में एनसीईआरटी ने नई सूचनाओं को जोडऩे योजना बनाई गई है। इन सूचनाओं व जानकारियों में गुड्स ऐंड सर्विसेज टैक्स, नोटबंदी, बेटी बचाव बेटी पढ़ाओ और स्वच्छता जैसे विषयों को जोड़ा जाएगा। इसके साथ ही भाषा को सरल और आसान बनाने के साथ ही अन्य त्रुटियां भी दूर की जाएंगी। अब तक एनसीईआरटी ने कुल 1,334 बदलाव किए हैं यानी 7 बदलाव प्रति पुस्तक हुए हैं। एनसीईआरटी के निदेशक हृषिकेश सेनापति का कहना है कि कंटेंट एक महीने में तैयार हो जाएंगे और उसके तुरंत बाद प्रिंटिंग के लिए भेज दिया जाएगा। पुस्तकों को अप्रैल 2018 में ऐकडेमिक सेशन शुरू होने से पहले मार्च तक स्कूलों और लोगों तक डिलिवर कर दिया जाएगा।

दो करोड़ का ऑर्डर बुक

दरअसल, एनसीईआरटी की किताबों की डिमंाड लगातार बढ़ती जा रही है। यही कारण है कि काउंसिल को अपनी वेबसाइट पर अभी तक 2 करोड़ से ज्यादा किताबों के ऑर्डर बुक हो चुके हैं। किताबों की डिमांड को देखते हुए एनसीईआरटी ने अपने प्रिंटर्स और वेंडर्स की संख्या में इजाफा किया है। इसके अलावा एनसीईआरटी ने पुस्तकों की पेपर क्वॉलिटी पर भी ध्यान दिया है। एनसीईआरटी अपनी लगभग 182 किताबों को अपडेट करेगा

 

 

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned