नेशनल टेस्टिंग एजेंसी जारी करेगी NEET Cut Off 2020 अंक, देखें पूरी जानकारी

  • एनटीए द्वारा एनईईटी कट ऑफ ( NEET Cut Off 2020 ) अंक शीघ्र ही जारी किए जाने की संभावना।
  • कट-ऑफ में परीक्षा उत्तीर्ण करने के लिए जरूरी न्यूनतम क्वॉलिफाइंग पर्सेंटाइल और स्कोर शामिल।
  • NEET 2020 कट ऑफ को नतीजों के साथ ऑनलाइन घोषित किया जाएगा।

 

नई दिल्ली। मेडिकल पाठ्यक्रमों में प्रवेश के लिए उम्मीदवारों को शॉर्टलिस्ट करने के लिए राष्ट्रीय पात्रता सह प्रवेश परीक्षा कट ऑफ ( NEET Cut Off 2020 ) के अंक नेशनल टेस्टिंग एजेंसी (NTA) द्वारा जल्द ही जारी किए जाएंगे। नीट प्रवेश परीक्षा रविवार 13 सितंबर को दोपहर 2 से शाम 5 बजे तक देश भर के तमाम केंद्रों पर आयोजित की गई थी।

NEET परीक्षा का ऐसा खौफ, तीन स्टूडेंट्स ने कर ली खुदकुशी

नीट में विभिन्न श्रेणियों के लिए कट-ऑफ के अंक का पर्सेंटाइल अलग-अलग होता है। मीडिया रिपोर्ट के अनुसार NEET 2020 परीक्षा के लिए संभावित कट-ऑफ यह हो सकता है: सामान्य उम्मीदवारों के लिए 50 पर्सेंटाइल; सामान्य-दिव्यांग के लिए 45 पर्सेंटाइल और अनुसूचित जाति/अनुसूचित जनजाति/अन्य पिछड़ा वर्ग के लिए 40 पर्सेंटाइल।

रिपोर्ट में कहा गया है कि अधिकांश परीक्षार्थियों को प्रश्न पत्र के भौतिकी खंड में कठिन प्रश्नों का सामना करना पड़ा। जबकि इस वर्ष जीव विज्ञान और रसायन विज्ञान का हिस्सा अपेक्षाकृत आसान रहा। NEET 2020 का आयोजन भारत के कॉलेजों में एमबीबीएस की 80,055 सीटों, बीडीएस की 26,949 सीटों, आयुष की 52,720 सीटों और बीवीएससी की 525 सीटों और AH सीटों पर प्रवेश के लिए किया गया था।

नीट परीक्षा

वहीं, एक अन्य मीडियो रिपोर्ट के मुताबिक न्यूनतम पर्सेंटाइल और अंकों की कट-ऑफ जिसे छात्रों को परीक्षा पास करने के लिए जरूरत होती है, ऑनलाइन मोड में परिणाम के साथ जारी किया जाएगा। एनईईटी कट ऑफ कई कारकों पर आधारित है, जिसमें क्वॉलीफाइंग पर्सेंटाइल भी शामिल है। मेरिट लिस्ट को पर्सेंटाइल के आधार पर तैयार किया जाएगा और इसमें अखिल भारतीय रैंक (AIR), अंक, पर्सेंटाइल, कैटेगरी, कैटेगरी रैंक का भी उल्लेख होगा।

देश में तेजी से बढ़ते जा रहे कोरोना वायरस मामलों के बीच स्वास्थ्य मंत्रालय ने सुनाई बड़ी राहत की खबर

कट-ऑफ का निर्धारण करने वाले कारकों में परीक्षा देने वाले उम्मीदवारों की संख्या, उपलब्ध कुल सीटें, परीक्षा का कठिनाई स्तर और आरक्षण मानदंड भी शामिल हैं। इस नीट परीक्षा का आयोजन कोरोना वायरस महामारी के कारण कड़ी सावधानियों के बीच देश भर के 3,800 से अधिक परीक्षा केंद्रों पर किया गया था।

परीक्षा देकर निकलने वाले ज्यादातर छात्रों ने बताया कि सवालों का एक बड़ा हिस्सा NCERT पाठ्यपुस्तकों से लिया गया गया था। गौरतलब है कि NEET एक कागज और कलम द्वारा दी जाने प्रवेश परीक्षा है जो साल में एक बार आयोजित की जाती है। इस वर्ष कोरोना वायरस महामारी के चलते परीक्षा के आयोजन को लेकर देश भर में काफी विरोध हुआ और विभिन्न राजनीतिक दलों द्वारा इसके खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में याचिका और समीक्षा याचिका तक लगाई गई, लेकिन आखिर में अदालत के आदेश के बाद इनका आयोजन किया गया।

Coronavirus Pandemic
Show More
अमित कुमार बाजपेयी
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned