निर्भया केसः दिल्ली हाईकोर्ट ने खारिज की मुकेश की याचिका, निचली अदालत जाने को कहा

  • Nirbhaya Case दोषी मुकेश को Delhi High Court से नहीं मिली राहत
  • पटियाला हाउस कोर्ट की ओर से जारी डेथ वारंट को दी थी चुनौती
  • दोबारा निचली अदालत जाने का दिया निर्देश

नई दिल्ली। निर्भया गैंगरेप केस ( Nirbhaya Gangrape Case ) में चार दोषियों में शामिल मुकेश ने पटियाला हाउस कोर्ट ( Patiala House Court ) की ओर से जारी डेथ वारंट को निरस्त कराने के लिए मंगलवार को दिल्ली हाइकोर्ट ( Delhi High Court ) में याचिका दायर की। यहां मुकेश को बड़ा झटका लगा है। दिल्ली हाईकोर्ट ने मुकेश को कोई राहत नहीं देते हुए याचिका को खारिज कर दिया है।

दोषी मुकेश की याचिका पर जस्टिस मनमोहन और जस्टिस संगीता ढींगरा सहगल की बेंच ने सुनवाई शुरू की। कोर्ट ने मुकेश के वकील को निचली अदालत यानी पटियाला हाउस कोर्ट में ही जाने को कहा है।

याचिका खारिज होते ही जेल में ये काम करने लगा दोषी, पिता से कही ऐसी बात कि जेलर के भी उड़े होश

आपको बता दें कि मुकेश ने राष्ट्रपति और दिल्ली के उपराज्यपाल के पास दया याचिका ( Mercy Petition) भी भेजी है।

याचिका में दी ये दलील
दरअसल हाईकोर्ट में दायर इस याचिका में कहा गया है कि मुकेश ने उपराज्यपाल व राष्ट्रपति को दया याचिका भेजी है। यही वजह है कि डेथ वारंट को रद्द किया जाए। इस वारंट के अमल पर रोक लगायी जाये। ऐसा नहीं होने पर याची के संवैधानिक अधिकार प्रभावित होंगे।

इसके बाद ये कदम उठा सकते हैं दोषी
याचिका में दोषी को दया याचिका दायर करने के अधिकार संबंधी जानकारी भी दी गई है। जब दया याचिका खारिज हो जाए तो कानून दोषी को सुप्रीम कोर्ट जाने की इजाजत देता है।

बीजेपी के दिग्गज नेता मनोज तिवारी के बयान से गर्माया सियासी पारा, आप खेमे में मंथन शुरू

व्यवहार का दिया हवाला
मुकेश ने अपनी दया याचिका में अपने चाल-चलन और व्यवहार का हवाला दिया है। मुकेश के वकील का कहना है कि उनके व्यवहार और चाल-चलन को देखते हुए उनकी फांसी की सजा के आदेश के निरस्त किया जाए।

Show More
धीरज शर्मा Reporting
और पढ़े
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned