किसानों ने लाल किला पर लहराया निशान साहिब का झंडा, योगेंद्र यादव ने बताया- ‘गणतंत्र का सबसे सुंदर दृश्य’

  • किसानों ने लाल किला परिसर में निशान साहिब झंडा फहरा दिया
  • लाल किले से निशान साहिब फहराए जाने के बाद योगेंद्र यादव ने इसे अद्भुत दृश्य बताया

नई दिल्ली। तीन नए कृषि कानूनों के विरोध में जारी किसानों का आंदोलन आज ट्रैक्टर रैली के दौरान हिंसक हो गया। कई किसान लाल किला परिसर में भी दाखिल हो गए। लाल किले पर कब्जा करने के साथ ही कुछ किसानों ने वहां पर निशान साहिब का झंडा भी फहरा दिया है। लाल किला में हुई घटना की चौतरफा निंदा हो रही है लेकिन किसानों का कहना है कि जैसे पॉलिटिकल पार्टियां अपना शक्ति प्रदर्शन करती हैं, उसी तरह से किसान भी अपना शक्ति प्रदर्शन किया है। इसमें कोई बुराई नहीं है।

किसान आंदोलन को लेकर अमित शाह के आवास पर आपात बैठक, गृहसचिव समेत कई अफसर मौजूद

किसानों के साथ ही स्वराज पार्टी के संस्थापक योगेंद्र यादव ने भी निशान साहिब का झंडा को लाल किले पर फहराने के सही ठहराया। मीडिया से बात करते हुए योगेंद्र ने कहा अब तक गण नीचे था, तंत्र ऊपर हो गया। आज गण ऊपर आ गया। किसी भी गणतंत्र के लिए इससे सुंदर दृश्य क्या हो सकता है।

उन्होंने कहा दिल्ली की सड़कों पर आज अद्भुत दृश्य है। योगेंद्र ने कहा कि पिछले डेढ़-दो महीने से सरकार जिन जगहों पर किसानों को बैरिकेड्स लगाकर रोका रही था। किसानो ने वहीं से आगे बढ़ने का तय किया था। जो तय था वहीं हुआ।

Tractor rally: हिंसा के बाद दिल्ली के इन इलाकों में बंद हुआ इंटरनेट, रात 12 बजे तक बंद रहेगी सेवा

योगेंद्र के अलावा किसान नेता राकेश टिकैत ने कहा कि किसान शांतिपूर्ण तरीके से प्रदर्शन कर रहे हैं लेकिन राजनीतिक पार्टियों के लोग आंदोलन को बदनाम करने के लिए हिंसा कर रहे हैं। हिंसा का किसानों से कोई लेना देना नहीं है। किसानों ने पहले ही ट्रैक्टर परेड निकालने का ऐलान किया था।वहीं किसान संयुक्त मोर्चा ने भी हिंसा की निंदा करते हुए खुद को अलग कर लिया है।

 

Show More
Vivhav Shukla
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned