विवादित बाबरी मस्जिद के मुद्दई हासिम अंसारी का निधन 

विवादित बाबरी मस्जिद के मुद्दई मोहम्मद हासिम अंसारी का निधन हो गया। करीब 96 वर्षीय अंसारी के एक पुत्र है

अयोध्या। विवादित बाबरी मस्जिद के मुद्दई मोहम्मद हासिम अंसारी का निधन हो गया। करीब 96 वर्षीय अंसारी के एक पुत्र है। उन्होंने तड़के पांच बजे आपने आवास पर अंतिम सांस ली। गत 22/ 23 दिसम्बर 1949 को विवादित ढांचे में में रामलला की मूर्ति प्रकट होने के बाद फैजाबाद की कचहरी में बाबरी मस्जिद की तरफ से मुकदमा दायर करने वाले वह पहले पैरोकार थेे। 'चचा' के नाम से लोकप्रिय अंसारी की मृत्यु की खबर सुनते ही उनके घर पर लोगों का तांता लगना शुरू हो गया। लम्बे समय से बीमार चल रहे अंसारी के निधन पर अयोध्या के कई संतो महंतो ने भी शोक व्यक्त किया।

ansari

अंसारी के पुत्र इकबाल के अनुसार उनको सुपुर्द-ए-खाक शीश पैगम्बर की मजार के पास स्थित कब्रिस्तान में किया जाएगा। मंदिर आंदोलन के दौरान अयोध्या में तनाव रहने के बावजूद वह लोगों से शांति की ही अपील करते रहते थे। उनका हिन्दू और मुसलमान दोनों में बराबर का सम्मान था। राम मंदिर आन्दोलन के शलाका पुरूष रहे परमहंस रामचन्द्र दास के वह अभिन्न मित्र थे। तेरह साल पहले श्री परमहंस की हुई मृत्यु पर आया उनका बयान, 'मेरा दोस्त मुझसे पहले चला गया।' 



आज भी लोगों की जुबान पर है। उनके निधन पर अखिल भारतीय अखाडा परिषद के पूर्व अध्यक्ष और प्रसिद्ध हनुमानगढी के महंत ज्ञान दास ने शोक व्यक्त करते हुए कहा कि मंदिर मस्जिद विवाद का सुलह समझौते से हल चाहने वाला व्यक्ति चला गया। एक पक्ष के पैरोकार होने के बावजूद अंसारी ने हमेशा दोनो पक्षों से धैर्य बनाए रखने की अपील करते रहते थे।



3 दिन बाद है हाशिम अंसारी के पौत्री की शादी
बुधवार की अल सुबह 5 बजे मस्जिद की नमाज के साथ आंख खोलने वाले हाशिम अंसारी ने रोज की तरह सामान्य रूप से दिन की शुरुआत की, घरवालों से बात की और पीने के लिए पानी और बिस्किट मांगा इसके बाद बिस्तर पर लेट गए जिसके कुछ ही देर बाद उनका अचानक निधन हो गया। अंसारी अपने पीछे अपने इकलौते बेटे बहू और 3 पोते और एक पोती का भरा पूरा परिवार छोड़ गए है। हाशिम अंसारी के निधन का गहरा सदमा उनके परिवार पर लगा है। आपको बता दें कि अब से 3 दिन बाद हाशिम अंसारी के भतीजे असलम अंसारी की बेटी तरन्नुम की शादी भी थी  लेकिन अचानक हुई इस दुखद घटना ने मैं सिर्फ शादी की तैयारियों को विराम लगा दिया है बल्कि परिवार को भी गहरा सदमा दिया है।


शाम 5 बजे होगी नमाजे जनाजा और अंतिम संस्कार
हाशिम अंसारी के निधन की जानकारी मिलते ही उनके आवास पर क्षेत्रीय निवासियों के साथ उनके जानने वालों और शोक संवेदना देने वालों का पता लग गया है ।हाशिम अंसारी के बेटे इकबाल अंसारी ने पत्रिका संवाददाता से बात करते हुए बताया कि उनके पिता हाशिम अंसारी का अंतिम संस्कार का अंतिम संस्कार शाम 5:00 बजे होगा, उनकी आवास से कुछ दूरी पर स्थित बिजली शहीद मस्जिद पर नमाजे जनाजा और मणि पर्वत क्षेत्र स्थित शीश पैगंबर कब्रिस्तान में शाम 5 बजे उन्हें सुपुर्दे ख़ाक किया जाएगा ।
भूप सिंह
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned