मेघालय: 42 दिन बाद कोयला खदान से बरामद हुआ पहला शव, बाकियों की तलाश में जुटी रेस्क्यू टीम

मेघालय: 42 दिन बाद कोयला खदान से बरामद हुआ पहला शव, बाकियों की तलाश में जुटी रेस्क्यू टीम

Kapil Tiwari | Publish: Jan, 24 2019 06:32:55 PM (IST) | Updated: Jan, 24 2019 07:25:48 PM (IST) इंडिया की अन्‍य खबरें

42 दिन के बाद कोयला खदान से पहले मजदूर का शव बरामद किया गया है।

शिलांग। मेघालय के जयंतिया हिल्स इलाके में एक अवैघ कोयला खदान में फंसे 15 मजदूरों में से एक मजदूर का शव गुरुवार को बाहर निकाल लिया गया। 42 दिन के बाद रेस्क्यू टीम को ये कामयाबी मिली है। अभी भी बाकि मजदूरों को बाहर निकाले जाने की कोशिशें जारी हैं।

200 फीट की गहराई पर मिला शव

जानकारी के मुताबिक, रेस्क्यू टीम ने 200 फीट की गहराई पर मजदूर का शव बरामद किया है। बाकी मजदूरों को निकालने के लिए सर्च ऑपरेशन जारी है। इस ऑपरेशन में एनडीआरएफ से नेवी तक तमाम दल रेस्क्यू में जुटे हैं।

शव को पोस्टमॉर्टम के लिए भेजा गया

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक शव मिलने के बाद उसे प्रशासनिक अधिकारी पीएस सीपुंग को सौंप दिया गया जिन्होंने शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है।

 

13 दिसंबर से फंसे हैं मजदूर

आपको बता दें कि बीते 13 दिसंबर को 15 मजदूर इस अवैध कोयला खदान में फंस गए थे। खदान में अचानक से पानी घुस आया था, जिसकी वजह से वो बाहर नहीं निकल सके। बताया जा रहा है कि 370 फीट गहरी इस खदान में 100 फीट से भी ज्यादा तक पानी भरा है। करीब 10 दिनों के बाद यहां मजदूरों को निकालने का काम शुरू हुआ। रेस्क्यू ऑपरेशन में एनडीआरएफ, फायर ब्रिगेड और इंडियन नेवी की टीमें लगी हुई हैं।

सुप्रीम कोर्ट ने भी केंद्र और राज्य सरकार को लगाई थी फटकार

हाल ही में सुप्रीम कोर्ट ने भी इस मामले को लेकर राज्य सरकार और केंद्र सरकार को फटकार लगाई थी। साथ ही कोर्ट ने ऑपरेशन को तेजी से चलाने के निर्देश दिए थे। कोर्ट ने कहा था कि सर्च ऑपरेशन जारी रखिए, हो सकता है कोई चमत्कार हो जाए।

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned