दिवाली से पहले लोगों पर पड़ेगी महंगाई की मार, 80 रुपए किलो पहुंच सकते हैं प्याज के दाम

देश भर में प्याज की डिमांड और सप्लाई के बीच आए भारी अंतर की वजह से प्याज के दामों में होगी बढ़ोतरी

नई दिल्ली: फेस्टिव सीजन में लोगों पर महंगाई की मार पड़ने वाली है। जी हां, अभी तक तो पेट्रोल-डीजल की कीमतों से लोग त्रस्त थे, तो वहीं सब्जियों में टमाटर की कीमतों ने लोगों को खूब रूलाया था। वहीं अब त्योहारी सीजन में प्याज की कीमतें आपके आंसू निकाल सकती हैं। दरअसल, दिल्ली-एनसीआर में फिलाहल 40 से 45 रुपए किलो बिक रही प्याज आने वाले कुछ दिनों में 80 रुपए किलो तक पहुंच सकती है।

सप्लाई और डिमांड के अंतर से बढ़ेंगी कीमतें
आपको बता दें कि कुछ दिन पहले तक प्याज की कीमतें 30 रुपए प्रति किलो थी, लेकिन इस समय प्याज 40 से 45 रुपए किलो बिक रही है और माना ये जा रहा है कि ये कीमत 80 रुपए किलो तक पहुंच सकती है। इसकी बड़ी वजह ये बताई जा रही है कि प्याज की डिमांड और सप्लाई में भारी अंतर आ गया है, जिस वजह से प्याज की कीमतें आने वाले दिनों में और ज्यादा बढ़ सकती हैं। देश की सबसे बड़ी प्याज की थोक मंडी लासलगांव में प्याज के दाम सोमवार को 2451 रुपये प्रति क्विंटल पर पहुंच गए, जो कि शुक्रवार को 2020 रुपये प्रति क्विंटल थे।

दक्षिण भारत में बारिश ने फसल की खराब
प्याज की सप्लाई और डिमांड में आए अंतर की बड़ी वजह ये भी है कि दक्षिण भारत के कई राज्यों में हो रही भारी बारीश की वजह से प्याज की फसल खराब हो चुकी है, जिसके चलते महाराष्ट्र के प्याज की डिमांड पूरे देश में बढ़ गई है। हालांकि जिस हिसाब से डिमांड है, उसके मुताबिक सप्लाई नहीं मिल पा रही है, जिसके कारण प्याज की कीमतों में उछाल देखने को मिल रहा है।

नासिक में है अभी सबसे सस्ती प्याज
इस समय पूरे देश में सबसे सस्ती प्याज महाराष्ट्र के नासिक में बिक रही है। यहां पर प्याज की रिटेल कीमत 35 रुपये प्रति किलो हो गई है। वहीं देश के दूर-दराज के इलाकों में प्याज के दाम अभी से 50 रुपये के पार चले गए हैं। दिवाली तक इसके 80 रुपये प्रति किलो पहुंचने की संभावना है।

Kapil Tiwari
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned