रेलवे तीर्थस्‍थलों से कनेक्टिविटी बढ़ाए, ताकि तीर्थाटन का महत्‍व और बढ़े

समिति ने सिफारिश की है रेलवे देश भर के सभी 'ए' श्रेणी वाले स्‍टेशनों पर विश्राम कक्ष की सुविधा उपलब्‍ध कराए।

नई दिल्‍ली: तीर्थस्‍थलों से लोगों का जुड़ाव बढ़े इसके लिए संसद की एक समिति ने सिफारिश की है कि रेलवे को अपनी कनेक्टिविटी बढ़ानी होगी तभी जाकर तीर्थाटन का महत्‍व बढ़ेगा। समिति ने यह भी सिफारिश की है कि रेलवे बोर्ड में पर्यटन का समुचित प्रतिनिधित्‍व होना चाहिए ताकि रेलवे की पर्यटन संबंधी नीतियों को वांछित गति मिल सके।गुरुवार को लोकसभा में 'पर्यटन संवर्धन और तीर्थाटन सर्किट' विषय के संबंध में समिति का अठारहवां पेश किया गया। समिति ने अपनी सिफारिश में कहा है कि रेलवे को पर्यटन क्षेत्र की उभरती हुई संभावनाओं को पूरा करने के लिए दीर्घकालीक योजना बनाए। समिति ने पर्यटन तथा तीर्थाटन के महत्‍व वाले स्‍थलों को तलाशने तथा उनकी पहचान करने के लिए मंत्रालय को जोनल स्‍तर पर एक समिति बनाने का भी परामर्श दिया है।
तिरुपति, शिर्डी के बीच और चले रेलगाड़िया

समिति ने अपनी सिफारिश में तिरूपति और शिर्डी के बीच और रे‍लगाड़िया चलाने की सिफारिश की है। समिति का कहना है कि तिरूपति और शिर्डी के बीच केवल दो मेल, एक्‍सप्रेस गाड़िया हैं। इन दो स्‍टेशनों के बीच यात्रियों की मांग को देखते हुए देश के अन्‍य शहरों से कनेक्टिविटी बढ़ाने की भी सिफारिश समिति ने की है।


'ए' श्रेणी वाले स्‍टेशनों पर विश्राम कक्ष की हो सुविधा
समिति ने सिफारिश की है रेलवे देश भर के सभी 'ए' श्रेणी वाले स्‍टेशनों पर विश्राम कक्ष की सुविधा उपलब्‍ध कराए। समिति ने कहा कि इसमें जिन स्‍टेशनों पर सुविधा उपलब्‍ध है वहां सुविधा का विस्‍तार किया जाए और जहां नहीं है वहां सुविधा उपलब्‍ध कराई जाए।

लग्‍जरी गाड़ियों के लिए हो विशेष प्रचार
समिति ने रेल मंत्रालय को राज्‍यों के पर्यटन विभाग के साथ मिलकर लग्‍जरी रेलगाड़ियों के प्रचार-प्रसार पर विशेष जोर देने के लिए कहा है। समिति ने यह भी सिफारिश की है कि लग्‍जरी गाड़ियों पर किए गए आय-व्‍यय का ब्‍यौरा अलग से हो ताकि लाभ एवं हानि के संबंध में वास्‍‍तविक स्थिति स्‍पष्‍ट हो सके।

Prashant Jha
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned