बिहार विधानसभा चुनावों में नीतिश कुमार के लिए वोट मांगेंगे मोदी

इस बार पीएम मोदी नीतिश कुमार के लिए बिहार विधानसभा चुनावों में वोट मांगेंगे और ऐसा दोनों दलों के इतिहास में पहली बार होगा।

कहते हैं कब किसका वक्त बदल जाए, कोई नहीं बता सकता। ये उक्ति भारतीय राजनीति पर भी सटीक बैठती है। जहां एक और भाजपा के सबसे पुराने सहयोगी शिरोमणि अकाली दल ने उसका साथ छोड़ दिया वहीं इस बार महाराष्ट्र में शिवसेना-बीजेपी के नए समीकरण बनते नजर आ रहे हैं। बिहार में भी ऐसा ही एक अजूबा होने जा रहा है।

महाराष्ट्र: क्या फडणवीस और राउत की मुलाकात से बदलेंगे राजनीतिक समीकरण!

कभी वाजपेयी के नेतृत्व वाले गठबंधन में सहयोगी रहे नीतिश कुमार ने नरेन्द्र मोदी के कारण एनडीए से पल्ला झाड़ लिया था। यहां तक कि उन्होंने बिहार भाजपा के इच्छा के विरूद्ध जाकर मोदी को चुनाव प्रचार के लिए आमंत्रित करने के लिए स्पष्ट मना कर दिया। लेकिन इस बार खुद पीएम मोदी नीतिश कुमार के लिए बिहार विधानसभा चुनावों में वोट मांगेंगे और ऐसा दोनों दलों के इतिहास में पहली बार होगा।

BJP कमेटी से हटाए जाने के बाद राहुल सिन्हा का बड़ा ऐलान, बंगाल चुनावों पर होगा असर

हालांकि पहले भी पीएम मोदी गठबंधन में शामिल अन्य दलों के लिए विधानसभा व लोकसभा चुनावों में वोट के लिए रैली करते रहे हैं परन्तु उन्होंने नीतिश कुमार या उनके गठबंधन जदयू के लिए कभी कोई रैली नहीं की। यहां तक कि बिहार में बाढ़ राहत के लिए गुजरात की ओर से भेजी गई मदद को भी नीतिश ने न केवल वापस लौटा दिया था वरन खुद को सार्वजनिक रूप से भी मोदी से पूरी तरह अलग कर लिया था।

इसे भी एक संयोग ही कहा जाएगा कि कभी शिरोमणि अकाली दल के मंच पर नीतिश कुमार ने नरेन्द्र मोदी से अलग होने की ठानी थी, आज वे दोनों साथ है और अकाली दल ने गठबंधन छोड़ दिया है। एक भी संयोग ही माना जाएगा कि जिस कृषि बिल को लेकर अकाली दल अलग हुआ है, उसका नीतिश ने न केवल समर्थन किया है वरन इसे किसानों के लिए प्रगतिशील तथा सशक्तिकरण वाला भी बताया है।

सुनील शर्मा
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned