मिशन 2019: भाजपा ने रखा जीत का मंत्र 'सुरक्षित', पीएम मोदी वडोदरा से लड़ सकते हैं आगामी लोकसभा चुनाव

मिशन 2019: भाजपा ने रखा जीत का मंत्र 'सुरक्षित', पीएम मोदी वडोदरा से लड़ सकते हैं आगामी लोकसभा चुनाव

Saif Ur Rehman | Publish: Sep, 10 2018 10:59:21 AM (IST) | Updated: Sep, 10 2018 12:01:26 PM (IST) इंडिया की अन्‍य खबरें

भाजपा 2014 लोकसभा चुनाव के प्रदर्शन को दोहराना चाहती है।

नई दिल्ली। कांग्रेस की अगुवाई में देश के 21 राजनीतिक दल जहां पेट्रोल-डीजल के बढ़ते दाम और महंगाई को लेकर सरकार को घेरने के लिए देश व्यापी बंद कर रहे हैं वहीं भाजपा इन सबसे बेफिक्र मिशन 2019 की तैयारी में जुटी हुई है। दो दिन चली राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक में यह साफ कर दिया गया कि पार्टी चुनाव जीतने में कोई कोर कसर नहीं छोड़ना चाहती। पार्टी अध्यक्ष अमित शाह ने भी कहा कि इस बार चुनाव में जीत की मुहर लगी तो 50 साल तक पार्टी को कोई सत्ता से हिला नहीं सकता। लोकसभा की एक-एक सीट को लेकर पार्टी रणनीति बना रही है। ऐसी खबर है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र की सीट को लेकर भी मंथन चल रहा है।

पिछली बार बनारस और वडोदरा सीट से लड़े प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के लिए इस बार फिर वडोदरा सीट रिजर्व रखी जाएगी। पिछली बार भी पीएम मोदी वडोदरा और बनारस सीट से लड़ रहे थे, हालांकि बाद में उन्होंने वडोदरा सीट छोड़ दी थी।

Patrika .com/miscellenous-india/bharat-bandh-petrol-price-hike-congress-opposition-party-modi-govt-3387917/?slide=2">पेट्रोल-डीजल की कीमतों पर विपक्ष का भारत बंद, तस्वीरों में देखें किन राज्यों में दिखने लगा असर

सब पर भारी मोदी की दावेदारी

मीडिया में आई खबरों की मानें तो लोकसभा चुनाव का टिकट पाने के लिए कई नेता बेकरार बैठे हुए हैं। पक्ष जुटाव (लॉबिंग) शुरू हो गया है। वडोदरा सीट को लेकर एक एक दर्जन से अधिक लोग टिकट पाने का सपना देख रहे हैं, लेकिन भाजपा के पदाधिकारियों ने इस सीट को अलग कर दिया है। भाजपा सूत्र के मुताबिक, "दावेदारी कर रहे नेताओं को बता दिया गया है कि संसदीय क्षेत्र पीएम मोदी के लिए सुरक्षित रखा गया है। ऐसा इसलिए है कि क्योंकि वह यहां से फिर से चुनाव लड़ेंगे और जीतेंगे भी।"

दस साल के बच्चों को चुनकर खिलाड़ी बनाएगी सरकार, हर साल 5 लाख देंगे: राज्यवर्धन सिंह राठौड़
पिछली बार छोड़ दी थी वड़ोदरा सीट
आपको बता दें कि 2014 लोकसभा चुनाव में नरेंद्र मोदी गुजरात के वडोदरा और उत्तर प्रदेश के वाराणसी संसदीय क्षेत्र से चुनाव लड़े थे। दोनों जगह से पीएम मोदी ने शानदार जीत हासिल की थी। जीत के बाद उन्होंने वडोदरा सीट छोड़ दी और वाराणसी से सांसद बने रहे। इसके बाद भाजपा ने रंजनबेन धनंजय भट्ट को चुनावी मैदान में उतारा और उन्होंने जीत हासिल की। भाजपा के वरिष्ठ सूत्रों की मानें तो वडोदरा से पीएम मोदी का भावनात्मक लगाव है, उनकी जीत सुनिश्चित है।

Ad Block is Banned