scriptPM Modi Released Hindi Translation of book Odisha Itihas | पीए मोदी ने किया ओडिशा इतिहास किताब का विमोचन, महताब के लिए कही ये बात | Patrika News

पीए मोदी ने किया ओडिशा इतिहास किताब का विमोचन, महताब के लिए कही ये बात

PM Modi ने किया ओडिशा इतिहास किताब के हिंदी संस्करण का विमोचन

नई दिल्ली

Published: April 09, 2021 02:14:16 pm

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ( PM Narendra Modi ) ने शुक्रवार को डॉ. हरेकृष्ण महताब की ओर से लिखित पुस्तक 'ओडिशा इतिहास' के हिंदी अनुवाद के लोकार्पण कार्यक्रम में हिस्सा लिया। इस दौरान पीएम मोदी ने 'ओडिशा इतिहास' के हिंदी संस्करण का विमोचन भी किया।
PM Narendra Modi Released Odisha Itihas book
पीएम मोदी ने किया ओडिशा इतिहास किताब का विमोचन
मोदी ने कहा कि हरे कृष्ण महताब ऐसे व्यक्तित्व थे, जिन्होंने इतिहास बनाया भी, बनते देखा भी और उसे लिखा भी।

यह भी पढ़ेँः राहुल गांधी ने PM Modi के 'टीका उत्सव' पर कसा तंज, कही इतनी बड़ी बात
पीएम नरेंद्र मोदी ने किताब के विमोचन के दौरान कहा कि हमने करीब डेढ़ वर्ष पहले उत्कल केसरी हरेकृष्ण महताब की 150वीं जयंती बहुत प्रेरणा के अवसर के रूप में मनाई थी।
इतिहास का अहम अध्याय होते हैं महापुरुष
पीएम मोदी ने कहा कि ये कितबा ऐसे में प्रकाशित हुई है जब देश आजादी का अमृत महोत्सव मना रहा है। यही नहीं इसी वर्ष उस घटना को भी 100 साल पूरे हो रहे हैं, जब हरे कृष्ण महताब कॉलेज छोड़कर आजादी के आंदोलन से जुड़े थे।
महतबा ने इतिहास बनाया, बनते देखा और लिखा
पीएम मोदी ने कहा- हरेकृष्ण महताब ऐसे व्यक्तित्व थे, जिन्होंने इतिहास बनाया भी, बनते देखा भी और उसे लिखा भी। देखा जाए तो ऐसे व्यक्तित्व काफी कम होते हैं जो महापुरुष खुद इतिहास का अहम अध्याय होते हैं।
गांधी जी ने जब दांडी यात्रा की शुरुआत की थी तब हरे कृष्ण महताब ने इस यात्रा को ओडिशा में नेतृत्व किया था। पीएम मोदी ने कहा कि महताब जी ने आजादी की लड़ाई में अपना जीवन समर्पित किया, उन्होंने जेल की सजा काटी। लेकिन महत्वपूर्ण ये रहा कि आजादी की लड़ाई के साथ-साथ वो समाज के लिए भी लड़े।
यह भी पढ़ेँः Corona संकट के बीच देश के इन शहरों में आज से Lockdown, कई इलाकों में बढ़ी पाबंदियां

बतौर मुख्यमंत्री लिए बड़े फैसले
हरेकृष्ण महताब ने बतौर ओडिशा के मुख्यमंत्री के रूप में बड़े-बड़े फैसले लिए। सत्ता में पहुंचकर भी वो अपने आप को पहले स्वतंत्रता सैनानी मानते थे और वो जीवन पर्यन्त स्वाधीनता सैनानी रहे।
खास बात यह है कि जिस पार्टी से वे प्रदेश के मुख्यमंत्री बने, आपातकाल के दौरान उन्होंने उसी पार्टी का विरोध किया और फिर जेल भी गए।

पीएम मोदी ने कहा- अगर आपने महताब की ओडिशा इतिहास पढ़ ली तो आपने ओडिशा को जान लिया। ओडिशा को जी लिया। इतिहास सिर्फ अतीत का अध्याय ही नहीं होता, बल्कि भविष्य का आईना भी होता है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Monsoon Alert : राजस्थान के आधे जिलों में कमजोर पड़ेगा मानसून, दो संभागों में ही भारी बारिश का अलर्टमुस्कुराए बांध: प्रदेश के बांधों में पानी की आवक जारी, बीसलपुर बांध के जलस्तर में छह सेंटीमीटर की हुई बढ़ोतरीराजस्थान में राशन की दुकानों पर अब गार्ड सिस्टम, मिलेगी ये सुविधाधन दायक मानी जाती हैं ये 5 अंगूठियां, लेकिन इस तरह से पहनने पर हो सकता है नुकसानस्वप्न शास्त्र: सपने में खुद को बार-बार ऊंचाई से गिरते देखना नहीं है बेवजह, जानें क्या है इसका मतलबराखी पर बेटियों को तोहफे में देना चाहता था भाई, बेटे की लालसा में दूसरे का बच्चा चुरा एक पिता बना किडनैपरबंटी-बबली ने मकान मालिक को लगाई 8 लाख रुपए की चपत, बलात्कार के केस में फंसाने की दी थी धमकीराजस्थान में ईडी की एन्ट्री, शेयर ब्रोकर को किया गिरफ्तार, पैसे लगाए बिना करोड़ों की दौलत

बड़ी खबरें

'हर घर तिरंगा' अभियान में शामिल हुई PM नरेंद्र मोदी की मां हीराबेन, बच्‍चों के संग फहराया राष्‍ट्रीय ध्‍वज7,500 स्टूडेंट्स ने मिलकर बनाया सबसे बड़ा ह्यूमन फ्लैग, गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड में दर्ज हुआ नामबिहारः सत्ता गंवाते ही NDA के 3 सांसद पाला बदलने को तैयार, महागठबंधन में शामिल होने की चल रही चर्चा'फ्री रेवड़ी ' कल्चर व स्कूल के मुद्दे पर संबित्र पात्रा ने AAP को घेरा, कहा- 701 स्कूलों में प्रिंसिपल नहीं, 745 स्कूलों में नहीं पढ़ाया जाता विज्ञानPM मोदी ने कॉमनवेल्थ गेम्स में हिस्सा लेने वाले दल से मुलाकात की, कहा- विजेताओं से मिलकर हो रहा गर्वप्रियंका के बाद अब सोनिया गांधी भी दोबारा हुईं कोरोना पॉजिटिव, तेजस्वी यादव ने कल ही की थी मुलाकातजम्मू कश्मीर में टेरर लिंक मामले में बिट्टा कराटे की पत्नी समेत चार सरकारी कर्मचारी बर्खास्त2009 में UPSC किया टॉप, 2019 में राजनीति के लिए नौकरी छोड़ी, अब 2022 में फिर कैसे IAS बने शाह फैसल?
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.