Air quality Index: लॉकडाउन खुलने के बाद देश में प्रदूषण बढ़ा, मुंबई के वर्ली में वायु गुणवत्ता बेहद खराब

Highlights

  • मुंबई के वर्ली क्षेत्र में सोमवार को एयर क्वालिटी इंडेक्स 824 तक पहुंचा है जोकि बेहद खराब हवा की श्रेणी में आता है।
  • विशेषज्ञों का मनना है कि हवा की गुणवत्ता आने वाले समय में और भी खराब होगी।

नई दिल्ली। मार्च माह में कोरोना वायरस ( Coronavirus) के कारण लॉकडाउन (Lockdown) लगने के बाद से ऐसी खबरें खूब सामने आईं कि देश के कई हिस्से प्रदूषण मुक्त होते जा रहे हैं। एयर क्वालिटी इंडेक्स में लगातार सुधार देखने को मिल रहा है। इस दौरान न सड़कों पर वाहन थे और न ही कारखाने खुले। इसका फायदा देश के पर्यावरण को मिला। मगर लॉकडान खुलने के बाद से दोबारा से माहौल पहले जैसा होने के संकेत मिले हैं। दिल्ली की ही बात करें तो इसके कई क्षेत्र दोबारा से प्रदूषण की जद में आ चुके हैं। यहां के एयर क्वालिटी इंडेक्स की बात करें तो इन जगहों पर प्रदूषण का स्तर काफी अधिक है।

एयर क्वालिटी इंडेक्स के अनुसार 0- 50 अच्छा, 50- 100 मध्यम, 100 - 150 को संवेदनशील, 150 - 200 को अस्वस्थ,200 - 300 बहुत अस्वस्थ, वहीं 300 -500 खतरनाक स्वास्थ्य चेतावनी के रूप में देखा जाता है। दिल्ली के कई क्षेत्रों में एयर क्वालिटी इंडेक्स को देखा जाए तो सोमवार को पूसा रोड, पहाडगंड के मदर डेयरी, सरस्वती कॉलेज दिल्ली, पीजीडीएवी कॉलेज, सोनिया विहार वाटर ट्रीटमेंट प्लांट के क्षेत्रों में हवा की गुणवत्ता 100 ये 150 के बीच है। जो इसके संवेदनशील होने का प्रमाण देता है।

इसी तरह पूरे देश की बात करें तो लखनऊ, मुंबई और दक्षिण के कई इलाकों में हवा की गुणवक्ता बेहद खराब हो रही है। मुंबई के वर्ली क्षेत्र में सोमवार को एयर क्वालिटी इंडेक्स 824 तक पहुंचा है जोकि बेहद खराब हवा की श्रेणी में आता है। वहीं बेंगलुरु में भी एयर क्वालिटी का स्तर मध्यम स्तर पर है। ऐसे में विशेषज्ञों का मनना है कि हवा की गुणवत्ता आने वाले समय में और भी खराब होगी। जैसे—जैसे लॉकडाउन पूरी तरह से खुलेगा, वाहन की आवाजाही में तेजी आएगी। इसके साथ दिवाली के आसपास पराली जलने पर दिल्ली और एनसीआर की हवा दोबारा से प्रदूषित हो सकती है।

Mohit Saxena
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned