लोकसभा चुनाव से पहले प्रियंका गांधी कर सकती है बड़े खुलासे, चल रही है तैयारी

लोकसभा चुनाव से पहले प्रियंका गांधी कर सकती है बड़े खुलासे, चल रही है तैयारी

नई दिल्ली। भारतीय राजनीति में इंदिरा गांधी को सबसे सफल प्रधानमंत्रियों में शुमार किया जाता है। अपनी राजनीतिक सोच और नजरिये से उन्होंने आजाद भारत को एक नई दिशा दी। खास बात यह है कि इंदिरा गांधी के बाद उनकी पोती यानी पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी की बेटी प्रियंका गांधी में भी लोग शुरू इंदिरा गांधी का ही अक्स देखते हैं। ये बात और है कि प्रियंका ने अब तक राजनीति से दूरी ही बनाए रखी है, लेकिन सबकुछ ठीक रहा तो लोकसभा चुनाव 2019 से पहले प्रियंका गांधी राजनीति को लेकर एक बड़ा खुलासा कर सकती है।


प्रियंका के राजनीति को लेकर इस खुलासे की तैयारी भी जोर शोर से चल रही है। दरअसल प्रियंका गांधी एक किताब लिखने में व्यस्त हैं। जानकारों की माने तो इस किताब के जरिये प्रियंका गांधी के राजनीतिक नजरिये को जानने का मौका मिलेगा, जिसकी हमेशा से ही चर्चा रहती है।


'अगेंस्ट आउटरेज' किताब का शीर्षक
प्रियंका गांधी राजनीति को लेकर क्या सोचती हैं, ये जानने का भी मौका मिलेगा। प्रियंका की किताब का शीर्षक 'अगेंस्ट आउटरेज' बताया जा रहा है। इस किताब के जरिये वे अपने राजनीतिक दृष्टिकोण को जनता के सामने रखेंगी। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक 300 पेज की इस किताब के लिए प्रकाशक ने प्रियंका गांधी को 1 करोड़ रुपये की राशि अडवांस के तौर पर दी है।

मार्च तक होगी फाइनल
मिली जानकारी के मुताबिक प्रियंका गांधी इस किताब को लोकसभा चुनाव से ठीक पहले लाने की कोशिश की जा रही है। यही वजह है कि इस किताब की पांडुलिपि प्रकाशक को मार्च, 2019 तक सौंप दी जाएगी। ऐसे में माना जा रहा है कि उनकी यह पुस्तक आम चुनाव के आसपास ही रिलीज हो सकती है। ऐसे होता है तो ये भाजपा के लिए भी काफी अहम होगी, क्योंकि प्रियंका गांधी का अब तक राजनीति में आने का इंतजार कर रहे लोग इस किताब के जरिये अपनी वोट को कांग्रेस के खाते में डाल सकते हैं।


यानी प्रियंका की किताब कांग्रेस और राहुल के सपने को दोबारा सच करने में भी कारगर साबित हो सकती है। कांग्रेस भी ये बात अच्छे जानती है कि प्रियंका के रूप में उनके पास वो चाबी है जिसका इस्तेमाल करने से वो सत्ता का ताला खोल सकते हैं।


कई भाषाओं में होगी प्रकाशित
राजनीति से जुड़ी प्रियंका की ये किता अंग्रेजी, हिंदी के अलावा अन्य क्षेत्रीय भाषाओं में भी प्रकाशित होने के बाद बाजार में उपलब्ध होगी। इसके अलावा ऑडियो बुक के तौर पर भी इसे रिलीज किया जाएगा। हालांकि प्रियंका गांधी के ऑफिस ने किताब को लेकर पूछे गए किसी भी सवाल का जवाब देने से इनकार कर दिया।

धीरज शर्मा
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned