राम मंदिर-बाबरी मस्जिद विवाद पर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई शुरू, तय होगी समयसीमा

राम मंदिर-बाबरी मस्जिद विवाद पर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई शुरू, तय होगी समयसीमा

Dhirendra Kumar Mishra | Publish: Jan, 10 2019 08:01:11 AM (IST) | Updated: Jan, 10 2019 10:42:26 AM (IST) इंडिया की अन्‍य खबरें

राम जन्म भूमि-बाबरी मस्जिद विवाद मामले में इलाहाबाद हाईकोर्ट के 30 सितंबर, 2010 के फैसले के खिलाफ शीर्ष अदालत में 14 अपीलें दायर की गई हैं।

नई दिल्‍ली। सुप्रीम कोर्ट की पांच जजों की संविधान पीठ आज से अयोध्या में राम मंदिर-बाबरी मस्जिद मामले की सुनवाई करेगी। सुबह 10.30 बजे से सुनवाई शुरू होगी। पांच जजों की पीठ की अध्‍यक्षता स्‍वयं रंजन गोगोई करेंगे। शीर्ष अदालत की सर्वोच्‍च पीठ इलाहाबाद हाईकोर्ट के फैसले के खिलाफ दायर याचिकाओं पर सुनवाई करेगी। प्रधान न्यायाधीश रंजन गोगोई की अध्यक्षता वाली इस पांच सदस्यीय संविधान पीठ के अन्य सदस्यों में जस्टिस एसए बोबडे, जस्टिस एनवी रमण, जस्टिस यूयू ललित और जस्टिस धनन्जय वाई चंद्रचूड़ शामिल हैं।

भूमि विवाद
जब यह मामला चार जनवरी को सुनवाई के लिए आया था तो इस बात का कोई संकेत नहीं था कि भूमि विवाद मामले को संविधान पीठ के पास भेजा जाएगा। शीर्ष अदालत ने बस इतना कहा था कि इस मामले में गठित होने वाली उचित बेंच आज से इस मामले में सुनवाई करेगी। सुप्रीम कोर्ट की नवगठित पांच सदस्यीय बेंच में प्रधान न्यायाधीश सहित चार उन जजों को शामिल किया गया है जो भविष्‍य में प्रधान न्‍यायाधीश बन सकते हैं। जस्टिस गोगोई के उत्तराधिकारी जस्टिस बोबडे होंगे। उनके बाद जस्टिस रमण, जस्टिस ललित और जस्टिस चंद्रचूड़ की बारी आएगी। आपको बता दें कि अयोध्या में राम जन्म भूमि-बाबरी मस्जिद विवाद मामले में इलाहाबाद हाई कोर्ट के 30 सितंबर, 2010 के फैसले के खिलाफ शीर्ष अदालत में 14 अपीलें दायर की गई हैं। हाई कोर्ट ने इस फैसले में विवादित भूमि सुन्नी वक्फ बोर्ड, निर्मोही अखाड़ा और राम लला विराजमान के बीच बराबर- बराबर बांटने का आदेश दिया था। इस फैसले के खिलाफ अपील दायर होने पर शीर्ष अदालत ने मई 2011 में हाईकोर्ट के निर्णय पर रोक लगाने के साथ ही विवादित स्थल पर यथास्थिति बनाए रखने का आदेश दिया था। आज से इन्‍हीं मामले पर सुनवाई होगी। इस पीठ ने पहले ही साफ कर दिया है कि पांच जजों की पीठ केवल टाइटल सूट (जमीन विवाद) के मुद्दे पर सुनवाई करेगी।

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned