Odisha: सुजानपुर में दिखा दुर्लभ प्रजाति का Yellow Turtle, वायरल हुआ Video

  • Odisha के Balasore जिले में मिला दुर्लभ प्रजाति का पीला कछुआ ( Yello Turtle )
  • Sujanpur गांव के एक किसान को अपनी जमीन से मिला ये दुर्लभ कछुआ
  • देखने के लिए उमड़ी लोगों की भीड़, वीडियो हो रहा वायरल

नई दिल्ली। कोरोना संकट ( Coronavirus ) के बीच लोगों के होश उस वक्त उड़ गए जब उन्होंने एक पीले रंग का कछुआ ( Yellow Turtle ) देखा। दरअसल आम तौर पर कछुए मटमैले रंग के पाए जाते हैं। लेकिन यहां मामला बिल्कुल अलग था। लोगों को समझ नहीं आ रहा था ये गोल्डन कछुआ ( Golden Turtle ) आखिर आया कहां से। मामला ओडिशा ( Odisha )का है जहां बालासोर ( Balasore )जिले में एक दुर्लभ पीले रंग का कछुए लोगों के लिए जिज्ञासा का केंद्र बन गया।

कछुए को देखने के लिए उमड़ी भीड़

ये कछुआ सुजानपुर ( Sujanpur ) गांव के वासुदेव महापात्र नामक किसान की जमीन पर पाया गया है। जब किसान इस दुर्लभ कछुए को अपने घर ले आया तो इसे देखने को लिए बड़ी संख्या में ग्रामीण एकत्र हो गए। इस पीले कछुए की वीडियो ट्वीटर पर जमकर वायरल हो रही है।

देश में टूटा अब तक का कोरोना का रिकॉर्ड, एक दिन में 40 हजार से ज्यादा केस आए सामने, 11 लाख के पार पहुंचा आंकड़ा

मौसम को लेकर जारी हुआ अब तक का सबसे बड़ा अलर्ट, जानें देश के इन इलाकों में अगले कुछ घंटों में भारी बारिश की जारी हुआ चेतावनी

पीला कछुआ देखकर दंग रह गए लोग

ओडिशा के बालासोर जिले में एक दुर्लभ पीले रंग का कछुआ देख हर कोई रह दंग रह गया। अब तक इस तरह का कछुआ इन लोगों ने ना तो देखा था और ना सुना था।

कुछए को अपने घर ले गया किसान

वासुदेव ने अपनी जमीन में काम करते करते हुए यह कछुआ देखा था। कछुए को पकड़कर वह अपने घर ले आया। यहां पर इस पीले कछुए को वासुदेव ने पानी से भरे एक बड़े बर्तन में डाल दिया।

पानी मिलते ही कछुआ इसमें मस्ती से घूमने लगा। इस तरह के दुर्लभ कछुए को देखने को लिए बड़ी संख्या में लोग एकत्र हो गए।

बाद में वन विभाग को सौंपा

इसके बाद वासुदेव ने इस कछुए को वन विभाग को सौंप दिया गया। आइएफएश सुशांत नंद द्वारा इस वीडियो को ट्वीट करने के बाद यह वीडियो वायरल हो गया है। सुशांत नंद ने अपने ट्वीट में लिखा है कि शायद यह एक अल्बिनो था। उन्होंने एक जहाज के अंदर से पानी में तैरते हुए कछुए का वीडियो भी शेयर किया।

उनका कहना था कि "कुछ वर्ष पहले सिंध में स्थानीय लोगों ने इस तरह के एक कछुए को बचाया था।" गुलाबी आंखें ऐल्बिनिजम की एक सांकेतिक विशेषता है। ट्विटर पर कई लोगों ने कमेंट करते हुए बताया कि उन्‍होंने इससे पहले कभी पीले रंग का कछुआ नहीं देखा था।

Show More
धीरज शर्मा
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned