नीरव मोदी ने जिस LoU से किया अरबों का घोटाला, RBI ने अब उसे ही खत्म कर दिया

Chandra Prakash

Publish: Mar, 13 2018 08:09:48 PM (IST)

इंडिया की अन्‍य खबरें
नीरव मोदी ने जिस LoU से किया अरबों का घोटाला, RBI ने अब उसे ही खत्म कर दिया

आरबीआई ने बैंकों द्वारा लेटर ऑफ अंडरस्टैंडिंग (एलओयू) या लेटर ऑफ कंफर्ट जारी करने पर तत्काल प्रभाव से प्रतिबंध लगा दिया है।

नई दिल्ली। नीरव मोदी ने जिस लेटर ऑफ अंडरस्टैंडिंग के बल पर पंजाब नेशनल बैंक में फर्जीवाड़े को अंजाम दिया, अब आरबीआई ने उस जड़ को ही खत्म कर दिया है। आरबीआई ने बैंकों द्वारा लेटर ऑफ अंडरस्टैंडिंग (एलओयू) या लेटर ऑफ कंफर्ट जारी करने पर तत्काल प्रभाव से प्रतिबंध लगा दिया है।

नीरव ने LoU को बनाया फर्जीवाड़े का आधार
हीरा कारोबारी नीरव मोदी ने करीब 13 हजार करोड़ रुपये का पूरा घोटाला फर्जीवाड़ा कर बनाये गए पीएनबी के एलओयू के आधार पर ही किया था। वह लगातार एलओयू बनवाकर उनके आधार विदेशों में ऋण लेता रहा। नीरव मोदी को पीएनबी ने करीब 150 एलओयू जारी किए थे। मोदी ने पीएनबी के अलावा 17 अन्य बैंकों से करीब 3 हजार करोड़ रुपए का ऋण ले रखा था। पीएनबी जैसे फर्जीवाड़े से बचने के लिए आरबीआई एलओयू को ही खत्म कर दिया है।

 

तत्काल प्रभाव से खत्म हुई LoU की सुविधा
आरबीआई ने आज जारी अधिसूचना में कहा कि मौजूदा दिशा-निर्देशों की समीक्षा के बाद भारत में आयात के लिए ऋण के लिए बैंकों द्वारा एलओयू जारी करने की व्यवस्था तत्काल प्रभाव से समाप्त करने का फैसला किया गया है। उसने स्पष्ट किया है कि लेटर ऑफ क्रेडिट या बैंक गारंटी के जरिये गारंटी और सह-स्वीकार्यता के आधार पर आयात के लिए ऋण देने की व्यवस्था बनी रहेगी।

क्या है एलओयू
एलओयू एक तरह की गारंटी होती है। जिसके आधार पर उसे जारी करने वाले बैंक की दूसरी साखा या दूसरे बैंक खातेदार को धन मुहैया करा देते हैं। बैंक खाताधारक की मार्जिन मनी के आधार पर एलओयू जारी करता है। अगर एलओयू से पैसा लेने वाला खाताधारक दिवालिया हो जाता है तो एलओयू जारी करने वाला बैंक उस देनदारी का जिम्मेदार हो जाता है।

50 करोड़ से अधिक कर्ज पर पासपोर्ट जरुरी
अरबों रुपये के पंजाब नेशनल बैंक घोटाले के बाद सरकारी बैंकों को कहा गया है कि वे 50 करोड़ रुपये से अधिक का कर्ज लेनेवालों का पासपोर्ट विवरण रखें, ताकि कोई कर्जदाता देश से भागने की कोशिश करे तो उसकी जानकारी तुरंत उपलब्ध हो। वित्त सेवा सचिव राजीव कुमार ने एक ट्वीट में कहा, "सरकारी बैंक 50 करोड़ रुपये से अधिक का कर्ज लेनेवाले सभी नए ग्राहकों के पासपोर्ट का विवरण भी इकट्ठा करें।"

डाउनलोड करें पत्रिका मोबाइल Android App: https://goo.gl/jVBuzO | iOS App : https://goo.gl/Fh6jyB

Ad Block is Banned