सबरीमला मंदिर खुलने से पहले भूमाता ब्रिगेड और सरकार आमने-सामने, सुरक्षा में तैनात 21 हजार पुलिसकर्मी

सबरीमला मंदिर खुलने से पहले भूमाता ब्रिगेड और सरकार आमने-सामने, सुरक्षा में तैनात 21 हजार पुलिसकर्मी

नई दिल्ली। सबरीमला मंदिर में सभी उम्र समूह की महिलाओं के प्रवेश का मामला फिर तूल पकड़ता दिखाई दे रहा है। सितंबर के अपने फैसले पर दोबारा विचार करने के सुप्रीम कोर्ट के फैसले ने पहले तो सभी को विरोधियों को खुश कर दिया लेकिन फिर जब सुप्रीम कोर्ट ने अपने उस फैसले पर रोक से इनकार किया तो एक बार फिर से सभी ने चुप्पी साध ली। भारी विरोध के बीच शुक्रवार से दो महीने का पर्व शुरू हो रहा है। ऐसे में शुक्रवार से इस त्योहारी पर्व के लिए मंदिर एक बार फिर खोला जाएगा। इस बीच किसी भी तरह के विवाद की आशंका को खत्म करने और तीर्थयात्रा पर चर्चा के लिए गुरुवार को मुख्यमंत्री पिनरई विजयन ने सभी दलों के साथ बैठक की। उन्होंने कहा कि सरकार पूरी तरह से सुप्रीम कोर्ट के फैसले पर कायम है, जिसमें ये साफ तौर पर कहा गया था कि मंदिर में महिलाएं प्रवेश कर सकती हैं।

 

उधर, शुक्रवार से शुरू हो रहे पर्व से पहले प्रशासन की तरफ से मंदिर को पूरी तरह किले में तब्दील करने की तैयारी है। सूबे की आधी पुलिस (करीब 21 हजार पुलिसकर्मी) सुरक्षा व्यवस्था में तैनात रहेंगे। दो महीने के बीच चार चरणों में इनकी तैनाती होगी।

इस बीच भूमाता ब्रिगेड की तृप्ति देसाई ने कहा है कि अब तक इस मामले पर केरल सरकार की ओर से कोई प्रतिक्रिया नहीं आई है। अगर कोई हादसा होता है कि इसके जिम्मेदार मुख्यमंत्री और डीजीपी खुद होंगे। तृप्ति ने अपनी सुरक्षा को लेकर मुख्यमंत्री पिनराई विजयन को पत्र भी लिखा है। उन्होंने कहा है कि 17 नवंबर को जब वो मंदिर में प्रवेश के लिए जाएंगी तो उनकी सुरक्षा का इंतजाम किया जाए।


ये रहेगी सुरक्षा व्यवस्था
इलाके में किसी भी स्तर पर कानून-व्यवस्था से निपटने के लिए 2 महीने के अंदर चार चरणों में 21 हजार पुलिसकर्मी मुस्तैद होंगे। 16 नवम्बर को पहले चरण के तहत करीब 5200 पुलिसकर्मी तैनात किए जाएंगे। नवम्बर 30 को दूसरे चरण की शुरुआत होगी। पुलिस के मुताबिक 16 जनवरी (पर्व समाप्ति की तारीख) तक सुरक्षा के कड़े इंतजाम रहेंगे।

धीरज शर्मा
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned