गंगा के लिए अनशन पर बैठे अब गोपालदास एम्‍स में भर्ती, हालत गंभीर

गंगा के लिए अनशन पर बैठे अब गोपालदास एम्‍स में भर्ती, हालत गंभीर

बता दें कि स्‍वामी सानंद के बाद गोपालदास ने भी स्वामी सानंद की तरह जल त्‍याग चुके हैं ज‍िससे उनकी हालत नाजुक हो गई है।

नई दिल्ली: गंगा को लेकर अपनी जान गंवाने वाले स्वामी ज्ञानस्वरूप सानंद (पर्यावरणविद् जीडी अग्रवाल) के निधन के बाद संत गोपालदास की हालत बिगड़ गई है। गोपालदास को ऋषिकेश के एम्‍स अस्पताल में भर्ती कराया गया है । जहां उनका इलाज चल रहा है। बता दें कि स्‍वामी सानंद के बाद संत गोपालदास भी जल त्‍याग चुके हैं, ज‍िससे उनकी हालत नाजुक बन गई है। गोपालदास पिछले 111 दिनों से उत्तराखंड के अलग-अलग स्थानों पर अनशन कर रहे थे। संत गोपालदास बद्रीनाथ, जोशीमठ और ऋषिकेश में आमरण अनशन कर चुके हैं। उनका ये अनशन स्वामी सानंद के अनशन के समर्थन में है और वह मातृसदन में स्वामी सानंद के कमरे में अनशन कर रहे थे। गौरतलब है क‍ि हरियाणा के गुहाना के रहने वाले संत गोपालदास की हालत खराब है।

पीएम मोदी ने दुख जताया

पर्यावरणविद जीडी अग्रवाल के निधन पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शोक व्यक्त किया। उन्होंने कहा, 'मैं श्री जीडी अग्रवाल के निधन से बेहद दुखी हूं। शिक्षा, पर्यावरण की रक्षा, खासतौर से गंगा स्वच्छता के प्रति उनकी लगन को हमेशा याद रखा जाएगा। उन्हें मेरी श्रद्धांजलि।' गौरतलब है कि गंगा की स्वच्छता के लिए हरिद्वार के मातृ सदन में 111 दिनों से आमरण अनशन कर रहे अग्रवाल का गुरुवार को ऋषिकेश के एम्स में निधन हो गया।

नदी स्वच्छता पर लंबे समय से लड़ रहे हैं लड़ाई

आइआइटी रूड़की से सिविल इंजीनियरिंग की पढ़ाई करने वाले अग्रवाल रूड़की विश्वविद्यालय में विजिटिंग प्रोफेसर रहे थे। गंगा समेत अन्य नदियों की सफाई को लेकर उन्होंने पहली बार 2008 में हड़ताल की थी। इस दौरान उन्होंने सरकार से नदी के प्रवाह पर जल विद्युत परियोजनाओं के निर्माण को रद्द करने पर सहमति कराने में सफलता भी हासिल की थी। इसके बाद वे यूपीए सरकार के दौरान तत्कालीन पर्यावरण मंत्री जयराम रमेश ने व्यक्तिगत रूप से उनके साथ बातचीत में सरकार के प्रतिनिधिमंडल का नेतृत्व भी किया था।

Ad Block is Banned