सुप्रीम कोर्ट का हाईकोर्ट को आदेश, राम जन्मभूमि की निगरानी के लिए जल्द करें 2 जजों की नियुक्ति

सुप्रीम कोर्ट ने हाईकोर्ट को 10 दिन के अंदर राम जन्मभूमि की सुरक्षा की निगरानी के लिए 2 जजों की नियुक्ति का समय दिया है।

नई दिल्ली: अयोध्या विवाद में सुप्रीम कोर्ट ने इलाहाबाद हाईकोर्ट को आदेश दिया है कि राम जन्म भूमि की सुरक्षा की निगरानी के लिए तुरंत 2 जजों की नियुक्त की जाए। सोमवार को सुप्रीम कोर्ट ने अपने आदेश में कहा कि अयोध्या की विवादित जमीन की निगरानी के लिए 2 नए जजों की नियुक्ति की जाए। कोर्ट ने ये फैसला तब सुनाया है जब पहले से नियुक्त दो सेशन जजों में से एक टीएम खान रिटायर हो गए हैं और एसके सिंह हाईकोर्ट के जज बन गए हैं। सुप्रीम कोर्ट ने हाईकोर्ट को जजों की नियुक्ति के लिए 10 दिन का समय भी दिया है। कोर्ट ने कहा है कि 10 दिन के अंदर किसी भी हाल में विवादित जमीन की निगरानी के लिए जजों को ऑब्जर्वर नियुक्त करें।

सुप्रीम कोर्ट ने दी है 6 जिलों के जजों की लिस्ट
सर्वोच्च न्यायालय ने कहा कि इनमें इनमें जिला जज, अतिरिक्त जज या स्पेशल जज हो सकते हैं। इसके लिए सुप्रीम कोर्ट ने छह जिलों के जजों की एक लिस्ट भी हाईकोर्ट को भेजी है। सुप्रीम कोर्ट के इस आदेश के बाद एक पक्ष को करारा झटका लगा है। इस बारे में मोहम्मद हाशिम की तरफ से पेश हुए वरिष्ठ वकील कपिल सिब्बल की मांग को सुप्रीम कोर्ट ने ठुकरा दिया।


सुब्रमण्यम स्वामी ने जताई खुशी
वहीं दूसरे पक्ष के वकील सुब्रमण्यम स्वामी ने अदालत के इस आदेश पर खुशी जताई है। स्वामी ने ट्वीट कर कहा, ''खुशी हुई कि सुप्रीम कोर्ट आज राम मंदिर की जमीन की सुरक्षा की निगरानी के लिए दो न्यायाधीशों की नियुक्ति करने के लिए सहमत हो गया''

सिब्बल ने की थी पूर्व जजों के बने रहने की मांग
वहीं मुस्लिम पक्ष के वकील कपिल सिब्बल ने मांग की थी कि पहले के ऑब्जर्वर टीएम खान और एसके सिंह को इस पद पर ऑब्जर्वर रहने दिया जाए। कपिल सिब्बल ने कहा कि वे पिछले 14 साल से ऑब्जर्वर हैं, इसलिए बेहतर होगा कि उनसे पूछ लिया जाए कि क्या वे ऑब्जर्वर बना रहना चाहते हैं या नहीं?

हर 2 हफ्ते में होता है विवादित स्थल का निरीक्षण
आपको बता दें कि जिनमें एक टीएम खान और एसके सिंह हर 2 हफ्तों में विवादित भूमि का निरीक्षण करने के लिए जाया करते थे। लेकिन दोनों का पद खाली होने के बाद निरीक्षण का क्रम टूट गया है।

Chandra Prakash Content Writing
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned