सुप्रीम कोर्ट शुक्रवार को अयोध्या मामले में सुनाएगा बड़ा फैसला, मध्यस्थता पर स्पष्ट करेगा अपना पक्ष

सुप्रीम कोर्ट शुक्रवार को अयोध्या मामले में सुनाएगा बड़ा फैसला, मध्यस्थता पर स्पष्ट करेगा अपना पक्ष

  • सुप्रीम कोर्ट शुक्रवार को अयोध्या मामले पर बड़ा फैसला सुनाएगा
  • अदालत इस मामले में मध्यस्तथा के पक्ष में है या नहीं हो जाएगा साफ
  • बुधवार को सुप्रीम कोर्ट ने सभी पक्षकारों को दिए थे खास निर्देश

नई दिल्ली। रामजन्मभूमि-बाबरी मस्जिद विवाद पर सुप्रीम कोर्ट शुक्रवार को बड़ा फैसला सुनाएगा। शीर्ष अदालत इस मामले में अपना रूख साफ करेगी कि वो इस मामले में मध्यस्तथा के पक्ष में है या नहीं। आपको बता दें कि इससे पहले पांच न्यायाधीशों की संविधान पीठ ने बुधवार को अयोध्या राम जन्मभूमि-बाबरी मस्जिद विवाद को मध्यस्थता के लिए भेजने के फैसले को सुरक्षित रख लिया था।

 

सुप्रीम कोर्ट का सभी पक्षकारों को निर्देश

बुधवार को ही अदालत ने इस विवाद पर मध्यस्थता करने की मंशा जाहिर की थी। इसके साथ ही उन्होंने मामले के सभी पक्षकारों से सर्वमान्य समाधान के लिए संभावित मध्यस्थों के नाम उपलब्ध कराने के निर्देश दिए थे। हालांकि उत्तर प्रदेश राज्य सहित हिंदू पक्षकारों ने अदालत के प्रस्ताव का विरोध किया। प्रधान न्यायाधीश न्यायमूर्ति रंजन गोगोई की अध्यक्षता में पांच न्यायाधीशों की पीठ ने इस मामले पर आदेश सुरक्षित रख लिया। उत्तर प्रदेश की तरफ से पेश हुए सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने कहा, 'यह (मध्यस्थता) उचित और विवेकपूर्ण नहीं होगा।'

वकील की दलील

राम लला की तरफ से पेश वरिष्ठ वकील सी.एस. वैद्यनाथन ने मध्यस्थता का विरोध किया और अदालत से कहा कि भगवान राम की जन्मभूमि विश्वास व मान्यता का विषय है और वे मध्यस्थता में विरोधी विचार को आगे नहीं बढ़ा सकते।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned