Video: करुणानिधि के अंतिम दर्शन के लिए उमड़ा सैलाब, भगदड़ में 2 की मौत, 50 लोग घायल

करुणानिधि की अंतिम यात्रा शाम चार बजे शुरू होगी। इससे पहले शव को अंतिम दर्शन को रखा गया है। लेकिन इससे पहले रजाजी हॉल में भगदड़ मच गई ।

By: Prashant Jha

Published: 08 Aug 2018, 02:15 PM IST

इंडिया की अन्‍य खबरें

चेन्नई: करुणानिधि की शव यात्रा से पहले रजाजी हॉल में उनके शव को रखा गया है। उनके अंतिम दर्शन के लिए बड़ी संख्या में लोग पहुंच रहे हैं। रजाजी हॉल के बाहर अंतिम दर्शन के लिए जन सैलाब उमड़ पड़ा है। पुलिस भीड़ पर काबू पाने की कोशिश कर रही है। लेकिन भीड़ बेकाबू हो गई। जिसके बाद पुलिस को भीड़ नियंत्रित करने के लिए लाठीचार्ज करना पड़ा । इसके बाद वहां भगदड़ मच गई। भगदड़ में 2 लोगों की मौत हो गई। वहीं 50 से ज्यादा लोग घायल हो गए हैं। फिलहाल पुलिस मामले को शांत कराने में जुटी है। पुलिस ने लोगों से शांति बनाने की अपील की है।

मद्रास हाईकोर्ट में पहुंचा मामला

फिलहाल करुणानिधि के अंतिम संस्‍कार के स्‍थल को लेकर विवाद चल रहा है। मरीन बीच पर उनका अंतिम संस्‍कार कराने को लेकर डीएमके की अपील का मद्रास हाईकोर्ट में प्रदेश सरकार ने विरोध किया है। इस बीच डीएमके के समर्थकों का इस बात को लेकर चेन्‍नई की सड़कों पर जोरदार प्रदर्शन किया। इस बीच करुणानिधि के निधन के साथ ही तमिलनाडु समेत पूरे देश में शोक की लहर है। आज देश भर में राष्‍ट्रीय शोक है तो प्रदेश सरकार ने सात दिन का शोक घोषित किया है।

मरीना बीच पर समाधि स्थल बनाने का विरोध

मद्रासा हाईकोर्ट में सुनवाई के दौरान तमिलनाडु सरकार ने डीएमके की मांग के खिलाफ हलफनामा दिया है। सरकार की ओर से कहा गया है कि हमने दो एकड़ जमीन और राजकीय सम्मान के साथ अंतिम संस्कार करने का वादा किया है। सरकार ने सरदार पटेल रोड पर जमीन देने की बात हाईकोर्ट में की है। इससे पहले मद्रास हाईकोर्ट में पिछले साल डाली गई सभी छह याचिकाओं को खारिज किया जा चुका है। इन याचिकाओं में मरीना बीच पर किसी भी तरह के समाधि स्थल बनाने का विरोध किया गया था। मरीना बीच पर सुरक्षाबलों को तैनात कर दिया गया

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned