503 यात्रियों को लेकर दिल्ली से बेंगलुरु पहुंची दूसरी पैसेंजर ट्रेन, पहली ट्रेन पर हुआ था हंगामा

- पहली ट्रेन के बेंगलुरू पहुंचने पर यात्रियोंं ने किया था हंगामा

- 503 यात्रियों को लेकर दिल्ली से बेंगलुरू पहुंची ट्रेन

नई दिल्ली। कोरोना वायरस ( coronavirus ) के मामले अभी थमे नहीं है, लेकिन फिर भी देश को जनता इस महामारी के साथ ही अपनी जिंदगी में आगे बढ़ने की कोशिश में चल पड़ी है। सरकार ने भी अब धीरे-धीरे सभी पाबंदियो में ढील देना शुरू कर दिया है। अब श्रमिक स्पेशल ट्रेन ( Shramik Special Train ) के अलावा पैसेंजर ट्रेन भी चलाई जा रही हैं। नई दिल्ली से दूसरी यात्री ट्रेन बेंगलुरु पहुंची। हालांकि, शनिवार को पहुंची इस ट्रेन के लोगों ने प्रशासन के साथ सहयोग किया और पिछली बार की तरह कोई बवाल नहीं हुआ।

503 यात्रियों के साथ दूसरी ट्रेन पहुंची बेंगलुरु

रेलवे के अधिकारियों ने बताया कि ट्रेन सुबह 6.40 पर संगोली रायन्ना सिटी रेलवे स्टेशन पहुंची थी। इस बार करीब 503 यात्री बेंगलुरु आये हैं। स्टेशन पर सभी की स्क्रीनिंग शांतिपूर्ण तरीके से हुई। सभी यात्री प्रोटोकॉल जानते थे। इसलिए सब इंस्टिट्यूशनल क्वारंटाइन के लिए राजी हो गए। किसी ने कोई आपत्ति दर्ज नहीं कराई।

स्टेशन पर की गई थी जबरदस्त तैयारी

साउथ-वेस्टर्न रेलवे (SWR) ने यात्रियों के लिए खास रिसीविंग बूथ बनाया था। हर कोच के लिए ऐसे 10 बूथ तैयार किए गए। इसके अलावा यात्रियों की स्क्रीनिंग और क्वारंटाइन सेवाओं के लिए भारी संख्या में SWR, BBMP, पुलिस और हेल्थ डिपार्टमेंट के अफसर स्टेशन पर तैनात रहे। इस दौरान स्टेशन परिसर में किसी भी विजिटर को एंट्री नहीं दी गई।

पहली ट्रेन के यात्रियों ने किया था हंगामा

रेलवे अधिकारियों के मुताबिक, बेंगलुरु से पहले ट्रेन सिकंदराबाद और अन्य स्टेशनों पर भी रुकी थी। आपको बता दें कि इससे पहले 14 मई को पहली ट्रेन से 14,553 यात्री बेंगलुरु आए थे। लेकिन, उस वक्त काफी बवाल हुआ। दरअसल, कई लोगों ने आरोप लगाया कि उन्हें ट्रेन में चढ़ने के बाद इंस्टिट्यूशनल क्वारंटाइन के बारे में बताया गया। लोगों ने इस प्रोटोकॉल को मानने से इनकार भी कर दिया, जिसके बाद काफी हंगामा हुआ। इनमें से करीब 70 लोगों को वापस भी भेजना पड़ा था।

coronavirus
Kapil Tiwari
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned