समलैंगिकता पर सुप्रीम कोर्ट के ऐतिहासिक फैसले का विरोध कर चुके हैं ये केंद्रीय मंत्री, जानिए 10 बड़े बयान

समलैंगिकता पर सुप्रीम कोर्ट के ऐतिहासिक फैसले का विरोध कर चुके हैं ये केंद्रीय मंत्री, जानिए 10 बड़े बयान

बृहस्पतिवार को आए सुप्रीम कोर्ट के इस फैसले से पहले देश में समलैंगिकता से जुड़े मुद्दों पर मशहूर राजनेता और शख्सियतों ने कई ऐसे बयान दिए हैं, जिन्हें आज जानना दिलचस्प साबित होगा।

नई दिल्ली। सुप्रीम कोर्ट ने बृहस्पतिवार को अपने ऐतिहासिक फैसले में समलैंगिकता को अपराध की श्रेणी से हटा दिया। सुप्रीम कोर्ट के ताजा आदेश के मुताबिक अब आपसी सहमति से दो वयस्कों के बीच बनाए गए समलैंगिक संबंध अपराध नहीं माने जाएंगे। हालांकि बृहस्पतिवार को आए सुप्रीम कोर्ट के इस फैसले से पहले देश में समलैंगिकता से जुड़े मुद्दों पर मशहूर राजनेता और शख्सियतों ने कई ऐसे बयान दिए हैं, जिन्हें आज जानना दिलचस्प साबित होगा। जानिए क्या क्या कह चुके हैं राजनेता और बुद्धिजीवी।

 

Yogi Adityanath

 

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने एक बयान में कहा था, "समलैंगिकता के संबंध में गलत तथ्य देकर धर्म का हवाला देना अनैतिक है। जो अप्राकृतिक है वो अप्राकृतिक है।"

 

Swamy

 

सुब्रह्मण्यम स्वामी ने कहा था, "समलैंगिक अनुवांशिक रूप से अपंग होते हैं। आपको अस्पताल जाने की जरूरत है। गे होना मानसिक विकार है।"

 

Azad

 

गुलाम नबी आजाद ने इस पर अपनी राय जाहिर करते हुए कहा था, "समलैंगिकता अप्राकृतिक है और एक बीमारी है।"

 

Rajnath Singh

 

गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने भी इसे अप्राकृतिक बताते हुए बोला था, "समलैंगिकता एक अप्राकृतिक कृत्य है और इसका कतई समर्थन नहीं किया जाना चाहिए।"

 

Lalu

 

राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव ने बयान दिया था, "गे संबंध को किसी भी कीमत पर कानूनी रूप से सही साबित नहीं किया जाना चाहिए। इस तरह के अश्लील कृत्यों को हमारे देश में इजाजत नहीं दी जानी चाहिए।"

 

Sushma Swaraj

 

विदेश मंत्री सुषमा स्वराज के मुताबिक, "समलैंगिक जोड़ों के लिए सरोगेसी हमारे सांस्कृतिक मूल्यों के खिलाफ है।"

 

Naqvi

 

भारतीय जनता पार्टी के नेता मुख्तार अब्बास नकवी ने बोला था, "हमारी एक संस्कृति है, सभ्यता है और समलैंगिकता इसके खिलाफ जाती है। कोई भी इस तरह की इस नई सभ्यता की इजाजत नहीं दे सकता।"

इसके अलावा डॉ. दीपक सावंत ने इस पर कहा था, "एलजीबीटी समुदाय के लिए मनोवैज्ञानिक इलाज की जरूरत है।"

जबकि रमेश तावड़कर का कहना था, "हम सभी एलजीबीटी युवाओं को सामान्य बनाने के लिए इलाज मुहैया कराने वाले केंद्र स्थापित करेंगे।"

दत्तात्रेय होसैबल का सोचना था, "समलैंगिकता हमारे समाज में सामाजिक रूप से अनैतिक कृत्य है। इन्हें सजा देने की जरूरत नहीं बल्कि मनोविकार समझते हुए इलाज की जरूरत है।"

(उपरोक्त बयान विभिन्न स्रोतों से जुटाए गए हैं। )

Ad Block is Banned