चंदा बाबू ने शहाबुद्दीन की बेल खारिज करने के लिए SC में लगाई याचिका

बाहुबली की बेल के खिलाफ चंद्रकेश्वर प्रसाद ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर कर पटना हाईकोर्ट के फैसले को चुनौती दी

नई दिल्ली। 11 साल बाद जेल से रिहा हुए बाहुबली नेता शहाबुद्दीन की मुश्किलें कम होती नहीं दिख रही हैं। बाहुबली की बेल के खिलाफ चंद्रकेश्वर प्रसाद ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर कर पटना हाईकोर्ट के फैसले को चुनौती दी है। वहीं सुप्रीम कोर्ट भी इस याचिका पर सुनवाई के लिए तैयार हो गया है। अब 19 सितंबर को मामले पर सुनवाई होगी। चंद्रकेश्वर प्रसाद की ओर से मशहूर वकील प्रशांत भूषण ने याचिका दाखिल की।

याचिका में कहा गया है कि किसी हिस्ट्रीशीटर को जमानत के समान्य नियमों के तहत जमानत नहीं दी जा सकती। हाईकोर्ट के आदेश पर तत्काल रोक लगाने की मांग की गई है। चंदा बाबू का कहना है कि शहाबुद्दीन के जेल से बाहर आते ही उनकी जान को खतरा उत्पन्न हो गया है। चंदा बाबू ने कहा कि न्याय के लिए आखिरी सांस तक लड़ेंगे। सहयोग मिलेगा तो हम जिंदा भी रहेंगे।

चंद्रकेश्वर प्रसाद ने बताया, मैंने हलफनामा और दस्तावेज भेज दिए हैं। या तो उस शख्स को बिहार से बाहर रखा जाए या फिर सजा ए मौत दी जाए। हम सीबीआई से भी अनुरोध करेंगे। हम बुजुर्ग हैं और दवा खाकर जिंदा है। हमारा पूरा परिवार तबाह हो गया। हम केवल मौत का इंतजार करते हुए जीवन काट रहे हैं। हम सरकार से भी मदद चाहते हैं।

हाल ही में सीवान के पत्रकार राजदेव रंजन की हत्या में शहाबुद्दीन के लोगों का नाम आने के बाद शहाबुद्दीन को सीवान जेल से भागलपुर जेल शिफ्ट कर दिया गया था। पिछले हफ्ते ही शहाबुद्दीन को कोर्ट से जमानत मिल गई थी। शहाबुद्दीन की रिहाई को लेकर बिहार सरकार विपक्ष के निशाने पर है। विपक्ष का आरोप है कि शहाबुद्दीन को जमानत मिल जाए इसके लिए सरकार ने जानबूझकर कोर्ट में ढंग से पैरवी नहीं की।

शहाबुद्दीन पर चंद्रकेश्वर प्रसाद के तीन बेटों की हत्या का आरोप है। आरोप है कि 2004 में चंद्रकेश्वर प्रसाद के दो बेटों सतीश और गिरीश को तेजाब से जलाकर मार दिया गया था। बाद में चंद्रकेश्वर प्रसाद के तीसरे बेटे और मामले के चश्मदीद राजीव की भी कोर्ट में गवाही से कुछ दिन पहले हत्या कर दी गई। इस मामले में सीवान की अदालत ने शहाबुद्दीन को उम्र कैद की सजा सुनाई थी।
राकेश मिश्रा Content Writing
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned