जम्मू में शहीद हुए जवान की मंगेतर नहीं सह पाई गम, पंखे से लटककर दे दी जान

जवान के अंतिम संस्कार में उमड़ा जनसैलाब

जम्मू कश्मीर के श्रीनगर में शहीद हुए सैनिक नीलेश धाकड़ की मंगेतर ज्योति धाकड़ ने शनिवार सुबह फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली। बताया जा रहा है कि जवान नीलेश की मौत की खबर के बाद से ही वे गुमसुम थी। उसे गहरा सदमा लगा था। वे खाना तक नहीं खा रही थी। आखिरकार कमरे में पंखे से लटककर उसने खुदकुशी कर ली। अगले साल 28 अप्रैल को नीलेश और ज्योति की शादी होने वाली थी। परिजनों ने इस मामले की सूचना पुलिस को दी। पुलिस अधिकारियों के अनुसार- घटना स्थल से कोई सुसाइड नोट नहीं मिला है। पुलिस के मुताबिक ज्योति ने शनिवार सुबह 5 बजे खुदकुशी की।

गौरतलब है कि देवास के घिचलाय के रहने वाले नीलेश धाकड़ मंगलवार को श्रीनगर में गोली लगने से शहीद हा गए थे। गुरुवार को उनके गृह क्षेत्र में सैन्य सम्मान के साथ उनका अंतिम संस्कार किया गया था। उनकी शव यात्रा में तीन सौ से ज्यादा दो पहिया तथा अन्य वाहन शामिल थे। इस दौरान, उनके अंतिम दर्शन के लिए भारी जनसेलाब उमड़ा था। हर आंख नम थी। सुबह महू से सेना के अधिकारी और जवान नीलेश का पार्थिव शरीर लेकर आए। महू से देवास सहित हर गांव में नीलेश को अंतिम विदाई देने के लिए सुबह से लोग जुट गए। लोगों ने सेना के वाहन पर फूल बरसाकर श्रद्धांजलि दी। गांवों में शहीद के सम्मान में पोस्टर भी लगाए गए। कई जगहों पर रंगाेली भी बनाई गई। सोनकच्छ से 33 किमी दूर स्थित ग्राम घिचलाय का रास्ता 1 घंटे का है। लेकिन लोगों की भीड़ के कारण सेना के वाहन को ये सफर तय करने में साढ़े तीन घंटे लगे।

इस मौके पर शहीद के 55 वर्षीय पिता सुकराम धाकड़ ने भावुक होते हुए विधायक राजेंद्र वर्मा को कहा कि उनका बेटा तो शहीद हो गया है। सेना में उनके लायक कोई काम हो तो वे सेना में जाने के लिए तैयार हैं। गौर हो, उन्हें बेटे के शहीद होने की खबर संस्कार से कुछ ही समय पहले बताई गई थी।

Navyavesh Navrahi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned