कांग्रेस नेता शशि थरूर ने गांजा-भांग को कानूनी मान्यता देने की मांग की, गिनाए फायदे

शशि थरूर ने कहा है कि अब समय आ गया है कि भारत को गांजे और भांग जैसे नशे के उत्पाद को कानूनी मान्यता दे देनी चाहिए।

नई दिल्ली। अपने बयानों के लिए हमेशा चर्चित रहने वाले कांग्रेस नेता शशि थरूर एक बार फिर से अपने एक बयान के लिए चर्चा में है। शशि थरूर ने कहा है कि अब समय आ गया है कि भारत को गांजे और भांग जैसे नशे के उत्पाद को कानूनी मान्यता दे देनी चाहिए। अपने दलील में तर्क देते हुए थरूर ने कहा कि यह कदम उठाना जरूरी इसलिए हो गया है जिससे दूसरे देश भारत को गांजा-भांग के कारोबार में पीछे न छोड़ दें।

भ्रष्टाचार और अपराध का ग्राफ नीचे आएगा

बता दें कि शशि थरूर ने एक लेख लिखते हुए कहा है कि नशे के इन उत्पादों को कानूनी मान्यता देने से देश में इससे जुडी आपराधिक गतिविधियों को पूरी तरह से खत्म हो जाएंगी। इसके अलावे भारत का यह कदम ऐसे समय में पूरी दुनिया के लिए मिसाल साबित होगा जब कई देशों में इसे कानूनी मान्यता देने की कवायद कर रहे हैं। थरूर ने अपने बताया है कि देश में गांजा-भांग के उत्पादन, आपूर्ति और उपयोग को कानूनी मान्यता देने से इसके प्रयोग से होने वाले नुकसान में गिरावट आएगी। साथ ही भ्रष्टाचार और अपराध का ग्राफ नीचे आएगा। थरूर ने कहा है कि देश की अर्थव्यवस्था को एक बड़ा बूस्ट मिलेगा।

गांजा मिलने से कोच में मचा हड़कंप, इंटेलिजेंस टीम ने संदिग्ध को किया गिरफ्तार -देखें VIDEO

शशि थरूर ने कहा कि भारत में पहली बार 1985 में भांग को प्रतिबंध किया गया। हालांकि दो दशक पहले 1961 में भारत सरकार ने अंतरराष्ट्रीय स्तर पर नारकोटिक ड्रग्स संधि पर हस्ताक्षर कर दिए थे। बता दें कि भारत के कुछ राज्यों में कानूनी मान्यता प्राप्त है। लेकिन गांजा पूरी तरह से देशभर में प्रतिबंधित है। थरूर ने कहा कि तकनीकी शब्दावली पर सवाल उठाते हुए कहा कि गांजा-भांग को समाज के लिए एक गंभीर बुराई बताई गई है लेकिन शराब, तंबाकू समेत कई तरह के ऐसे ड्रग्स जो घरों में दवा के डिब्बे में पाए जाते हैं कि तुलना में गांजा-भांग कम नुकसानदेह है। उन्होंने कहा कि गांजा-भांग को कानूनी मान्यता देना हमारा कर्तव्य है। बता दें कि शशि थरूर ने अपने इस बयान के समर्थन में कई तर्क पेश किए हैं जिसमें अर्थव्यवस्था को मजबूती देने की बात महत्वपूर्ण है।

Show More
Anil Kumar
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned