उमर अब्दुल्ला की PSA के तहत गिरफ्तारी को बहन सारा ने सुप्रीम कोर्ट में दी चुनौती

  • उमर अब्दुल्ला की गिरफ्तारी का मामला सुप्रीम कोर्ट पहुंचा
  • सुप्रीम कोर्ट ने सोमवार को याचिका दाखिल करने की दी अनुमति

नई दिल्ली। जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला अभी भी जन सुरक्षा कानून (पीएसए) के तहत हिरासत में हैं। यह मामला सुप्रीम कोर्ट पहुंच गया है। अब्दुल्ला को हिरासत में रखे जाने के खिलाफ उनकी बहन सारा अब्दुल्ला पायलट ने सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाया है।

यह भी पढ़ें-एससी-एसटी एक्टः बिना जांच होगी गिरफ्तारी, SC ने खारिज की चुनौती देने वाली अर्जी

वहीं, सुप्रीम कोर्ट ने सोमवार को याचिका दाखिल करने की अनुमति दे दी है। बता दें कि उमर अब्दुल्ला 5 अगस्त, 2019 से सीआरपीसी की धारा 107 के तहत हिरासत में थे। इस कानून के मुताबिक, छह महीने हिरासत की अवधि गुरुवार यानी 5 फरवरी 2020 को खत्म होने वाली थी।

लेकिन 5 जनवरी को सरकार ने अब्दुल्ला और महबूबा मुफ्ती के खिलाफ पब्लिक सेफ्टी एक्ट (पीएसए) लगा दिया। इसके बाद उनकी हिरासत 3 महीने से एक साल तक बिना किसी ट्रायल के बढ़ाया जा सकता है। जिसे लेकर पूर्व मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला की बहन सारा अब्दुल्ला सुप्रीम कोर्ट पहुंची हैं।

यह भी पढ़ें-मोदी सरकार पर बरसे राहुल गांधी,कहा- बीजेपी-RSS के डीएनए को आरक्षण चुभता है

याचिका में कहा गया है कि उमर अब्दुल्ला की गिरफ्तारी के पीछे कोई पर्याप्त सबूत नहीं है। याचिका में यह भी कहा गया कि जिस व्यक्ति को पहले ही 6 महीने तक गिरफ्तार करके रखा गया है। उसे और ज्यादा दिनों का गिरफ्तार रखने के लिए कोई सबूत नहीं मौजूद हो सकता है।

Shivani Singh Content Writing
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned