पत्रिका फैक्ट चेक: दूरसंचार विभाग सभी मोबाइल यूजर्स को लॉकडाउन तक फ्री इंटरनेट दे रहा, जानिए वायरल मैसेज की सच्चाई?

सोशल मीडिया पर यह मैसेज आग की तरह फैल रही है। पड़ताल में पाया गया कि संचार विभाग की ओर से ऐसी कोई भी खबर नहीं दी गई है। विभाग ने एक भी ऐसा आदेश या एडवाइजरी जारी नहीं किया है। यह मैसेज पूरी तरह से फर्जी और भ्रामक है।

नई दिल्ली। कोरोना वायरस को लेकर भारत में लॉकडाउन-2 तीन मई तक जारी है। कोरोना महामारी के बीच फेक न्यूज की भी भरमार है। सोशल मीडिया पर लगातार कई तरह की गलत और भ्रामक न्यूज वायरल हो रही है। जिससे यूजर्स पढ़कर कंफ्यूज हो रहे हैं। ताजा मामला लॉकडाउन के दौरान फ्री इंटरनेट देने को लेकर वायरल हो रहा है। सोशल मीडिया पर पिछले कुछ समय से एक मैसेज वायरल हो रहा है ।

वायरल मैसेज में दावा किया जा रहा है कि भारतीय दूरसंचार विभाग ने सभी मोबाइल यूजर को 3 मई 2020 तक फ्री इंटरनेट देने का ऐलान किया है जिसे प्राप्त करने के लिए दिए गए लिंक पर क्लिक करना होगा

दावा : भारतीय दूरसंचार विभाग ने सभी मोबाइल यूजर को 3 मई 2020 तक फ्री इंटरनेट देने का ऐलान किया है।

तथ्य :यह दावा बिलकुल झूठ है, व दिया गया लिंक फर्जी है।

क्या है वायरल मैसेज ?

सोशल मीडिया पर यह मैसेज आग की तरह फैल रही है। मैसेज में लिखा है कि Covid-19: भारतीय दूर संचार विभाग का एलान। कोरोना महामारी के कारण 03 मई 2020 तक लॉकडाउन की वजह से दूर संचार विभाग ने सभी मोबाइल यूजर को फ्री इंटरनेट देने का ऐलान किया है ताकि आप घर बैठे अपना काम कर सके।

कृप्या घर में रहकर कोरोना वायरस (Covid-19) को फैलने से रोके।

नोट:- नीचे दी गई लिंक पर क्लिक करके अपना फ्री रीचार्ज करें

https://mysafecovid19.com?internet

कृप्या ध्यान दे: यह ऑफर केवल 3 मई 2020 तक ही सीमित है!

पत्रिका के व्हाट्सएप नंबर पर भी कई यूजर्स ने यह मैसेज भेजकर सच्चाई जानने की कोशिश की है कि क्या सच में दूरसंचार विभाग 3 मई तक लोगों को फ्री इंटरनेट मुहैया करा रहा है।

ये भी पढ़ें: पत्रिका फैक्ट चेक: जर्मनी ने चीन से कोरोना वायरस से हुए नुकसान के लिए 130 बिलियन पाउंड का हर्जाना मांगा, जानें सच्चाई?

वायरल मैसेज की क्या है सच्चाई?

पत्रिका फैक्ट चेक टीम ने जब इससे संबंधित की वर्ड्स डाले तो पड़ताल में परिणाम बिलकुल विपरित दिखा। पड़ताल में पाया गया कि ऐसी कोई भी खबर दूर संचार विभाग की ओर से नहीं दी गई है। दूरसंचार विभाग ने एक भी ऐसा आदेश या एडवाइजरी जारी नहीं किया है। टेलीकॉम मिनिस्ट्री के ट्विटर हैंडल पर भी इस तरह की कोई न्यूज प्रकाशित नहीं है। यानी सोशल मीडिया पर वायरल मैसेज पूरी तरह से फेक और भ्रामक है। पत्रिका फैक्ट चेक टीम ने जब इस लिंक को चेक किया तो यह भी फर्जी निकला।

PIB ने दावे को गलत बताया

वहीं प्रेस इन्फॉर्मेंशन ब्यूर ने भी इस दावे को झूठा करार दिया है। PIB ने कहा कि भारतीय दूर संचार विभाग ने सभी मोबाइल यूजर को 3 मई तक फ्री इंटरनेट देने का कोई घोषणा नहीं की है। पीआईबी ने बताया कि दिया गया लिंक पूरी तरह से फर्जी है। कृप्या अफवाहों और जालसाजों से बचके रहें।

Prashant Jha
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned