झारखंड: नक्सली के बेटे ने किया कर्मचारी चयन आयोग की नौकरी पाने का इरादा, सीआरपीएफ कर रही है मदद

झारखंड: नक्सली के बेटे ने किया कर्मचारी चयन आयोग की नौकरी पाने का इरादा, सीआरपीएफ कर रही है मदद

नौकरी पाने के इच्छुक छात्रों की सीआरपीएफ मदद कर रही है।

डाल्टनगंज। नक्सलवाद देश के लिए नासूर बन गया है। झारखंड, बिहार के कई इलाके ऐसे हैं जहां पर नक्सलियों के आगे किसी की नहीं चलती है। यहां पर नकस्लियों ने सुरक्षाबलों की नाक में दम कर दिया है। इसी बीच नक्सल प्रभावित क्षेत्रों के युवा देश सेवा का भाव लिए सुरक्षा तंत्र से जुड़ रहे हैं। अब एक नक्सली के बेटे ने कर्मचारी चयन आयोग (एसएससी) के अंतर्गत कॉन्स्टेबल की नौकरी पाने के लिए ऑनलाइन आवदेन जमा करने हेतु केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ) से सहायता मांगी है। मीडिया में आई खबरों के मुताबिक, नक्सली सुखलाल बृजिया के 18 वर्षीय पुत्र बीकेश बृजिया ने 214वीं सीआरपीएफ बटालियन के सहायक कमांडेंट डी.पी यादव ने मुलाकात की। बुधवार को बीकेश ने डी.पी. यादव से भेंट कर खुद के लिए ऑनलाइन फॉर्म भरने का आग्रह किया। साथ ही उसने बताया कि वह अपने पिता के नक्शे कदम पर नहीं चलना चाहता है।

सीआरपीएफ जवान कर रहे हैं मदद

बीते शुक्रवार को सहायक कमांडेंट डी.पी यादव जानकारी दी कि, "जनजातीय लड़का निडर, बिना किसी हिचकिचाहट के हमारे शिविर में आया। सीआरपीएफ ने एसएससी परीक्षा के लिए बड़े पैमाने पर प्रचार किया है ताकि सभी सक्षम युवा लड़के और लड़कियां अपनी किस्मत आजमा सकें। "वहीं 214वीं सीआरपीएफ बटालियन के कमांडेंट अजय सिंह ने बताया है कि, " हमने अपने जवानों को निर्देश दिए कि जो एसएससी परीक्षा के लिए आवेदन करना चाहते हैं वे उनकी मदद करें। वह लड़के-लड़कियां गरीब हैं और अगर वह साइबर कैफे जाते हैं तो उनका काफी खर्चा होगा। साथ ही उन्होंने बताया कि, " आकांक्षियों की मदद के लिए सीआरपीएफ के जवान उन्हें परीक्षा की टिप्स भी दे रहे हैं। उधर लतेहार एसपी प्रशांत आनंद ने कहा, "एक आदर्श बदलाव हुआ है। अब, नक्सल परिवारों के लड़के और लड़कियों ने सुरक्षा बलों पर भरोसा करना शुरू कर दिया है। वे सहायता लेने में संकोच नहीं करते हैं।"

कटिहार: रंगीन मिजाज डॉक्टर को नर्सों ने दौड़ा-दौड़ा कर पीटा, जूते-चप्पल और लात-घूसों से किया हमला

 

निकली हैं 54,953 नौकरियां
बता दें कि कर्मचारी चयन आयोग (एसएससी) ने कॉन्स्टेबल के लिए सीआरपीएफ, बीएसएफ, इंडो-तिब्बती सीमा पुलिस और सीमा सुरक्षा बल के लिए 54,953 नौकरियों की घोषणा की है।

Ad Block is Banned