10 जनपथ में सोनिया की डिनर डिप्लोमैसी, 20 विपक्षी दलों के नेता हुए शामिल

10 जनपथ में सोनिया की डिनर डिप्लोमैसी, 20 विपक्षी दलों के नेता हुए शामिल

2019 के आम चुनाव में भाजपा की अगुवाई वाले एनडीए के विजय रथ को रोकने के लिए सोनिया ने 10 जनपथ में डिनर पार्टी का आयोजन किया है।

नई दिल्ली। आगामी लोकसभा चुनावों को ध्यान में रखते हुए देश में बदलते समीकरणों के बीच विपक्षी खेमे को एकजुट करने के लिए कांग्रेस की पूर्व अध्यक्षा सोनिया गांधी ने 10 जनपथ स्थित अपने आवास पर आयोजित डिनर डिप्लोमेसी में कई पार्टियों को आमंत्रित किया है। लगातार जीत के घोड़े पर सवार प्रधानमंत्री को रोकने के लिए सभी विपक्षी दल एकजुट होने का प्रयास कर रहे हैं।

राज्य के डीपीआर की हरियाली पर नहीं भरोसा, शाह की टीम अप्रैल में कराएगी गोपनीय जमीनी सर्वे, टिकट बंटवारे का बन सकता है आधार

विपक्षी दलों की एकता के लिए भोज
आपको बता दें कि राहुल गांधी को कांग्रेस अध्यक्ष पद सौंपने के बाद संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन की चेयरपर्सन सोनिया गांधी गठबंधन को मजबूत करने में जुटी हुई हैं। इसी को ध्यान में रखते हुए मंगलवार को कई विपक्षी पार्टियों के नेताओं को डिनर पर आमंत्रित किया है। इस डिनर पार्टी में 20 दलों के नेताओं को बुलाया गया था जिसमें एनसीपी के शरद पवार और हाल ही में एनडीए से अलग हुए हिंदुस्तानी अवाम मोर्चा के नेता जीतन राम मांझी भी पहुंचे।

मायावती ने जया बच्चन पर की गई अमर्यादित टिप्पड़ी पर नरेश अग्रवाल को दिया करारा जवाब

डिनर में कौन-कौन हुए शामिल
बता दें कि इस डिनर में तमाम दलों के वरिष्ठ नेता शामिल हुए। समाजवादी पार्टी से रामगोपाल यादव, एनसीपी से शरद पवार, राजद से तेजस्वी यादव और मीसा भारती, नेशनल कॉन्फ्रेंस से उमर अबदुल्ला, झारखंड मुक्ति मोर्चा से हेमंत सोरेन, सीपीआई से डी राजा, रालोद से अजित सिंह, सीपीएम से मोहम्मद सलीम, डीएमके से कनिमोझी, बीएसपी से सतीश मिश्रा, जेवीएम से बाबूलाल मरांडी, आरएसपी से रामचंद्र, हिंदुस्तान अवाम मोर्चा से जीतन राम मांझी, जेडीएस से डॉ. के रेड्डी, एआईयूडीएफ से बदरुद्दीन अजमल, तृणमूल कांग्रेस से सुदीप बंदोपाध्याय, आईयूएमएल से कुट्टी, केरल कांग्रेस से जोश के मनी, हिंदुस्तान ट्राइबल पार्टी से शरद यादव और कांग्रेस पार्टी से राहुल गांधी, सोनिया गांधी, मल्लिकार्जुन खड़गे, गुलाम नबी आजाद, मनमोहन सिंह, एके एंटनी, रणदीप सुरजेवाला, अहमद पटेल आदि शामिल हुए।

मुलायम सिंह के बाद अब सपा के इस बड़े नेता ने नरेश अग्रवाल को लेकर दिया यह बड़ा बयान

कांग्रेस के पास होगा गठजोड़ का नेतृत्व
बता दें कि कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने एक बयान में कहा कि यह भोज मित्रता और सोहार्द्र को बढ़ाने के लिए यूपीए अध्यक्षा द्वारा दिया गया है। हालांकि इस भोज में पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी शामिल नहीं हुईं। इस भोज में विपक्षी नेताओं को एकजुट कर सोनिया एक तीर से दो निशाना साधना चाहती हैं। विपक्षी नेताओं को डिनर पर बुलाकर वह ये साबित करना चाहती हैं कि मोदी के विकल्प के तौर पर बनने वाले गठजोड़ का नेतृत्व कांग्रेस के पास ही होगा।

तेलंगाना: विधानसभा में हंगामा, कांग्रेस के दो विधायक बर्खास्त, 11 निलंबित

क्यों आयोजित किया गया डिनर पार्टी
आपतो बता दें कि संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन (यूपीए) की अध्यक्षा सोनिया गांधी ने अपने आवास पर डिनर पार्टी का आयोजन किया है। डिनर पार्टी का खास मकसद अगले आम चुनाव में एनडीए के खिलाफ एक मजबूत विपक्ष को खड़ा करना है ताकि बीजेपी के विजयरथ को रोका जा सके।

केंद्रीय मंत्री अनंत कुमार ने बोले- कांग्रेस की जींस में नहीं है लोकतंत्र

किसको आमंत्रण नहीं मिला
बता दें कि सूत्रों के अनुसार, आंध्र प्रदेश की सत्तारुढ़ तेलुगू देशम पार्टी (टीडीपी), बीजेडी और टीआरएस के नेताओं को आमंत्रित नहीं किया गया है। टीडीपी ने अभी हाल ही में केंद्र सरकार से अपने दो मंत्रियों को वापस बुला लिया है। हालांकि टीडीपी अभी भी एनडीए का हिस्सा बनी हुई है। जबकि बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री और हिंदुस्तानी आवाम मोर्चा के प्रमुख जीतन राम मांझी बैठक में शिरकत करने दिल्ली पहुंचे हैं। जीतनराम मांझी ने हाल ही में राजग का साथ छोड़कर लालू प्रसाद के राजद के साथ हाथ मिला लिया है।

नरेश अग्रवाल के बयान पर भाजपा महिला सांसदों ने जताया एतराज, कहा- ये हमारी संस्‍कृति के खिलाफ

Ad Block is Banned