CBI को सुधारेंगे श्री श्री रविशंकर, अधिकारियों को देंगे 'दिव्य ज्ञान'

CBI को सुधारेंगे श्री श्री रविशंकर, अधिकारियों को देंगे 'दिव्य ज्ञान'

Saif Ur Rehman | Publish: Nov, 10 2018 10:54:15 AM (IST) | Updated: Nov, 10 2018 11:05:15 AM (IST) इंडिया की अन्‍य खबरें

तीन दिवसीय वर्कशॉप में सीबीआई में इंस्पेक्टर रैंक और उससे ऊपर के अधिकारी भाग लेंगे।

नई दिल्ली। अंदरूनी विवाद से सुर्खियों में आई देश की प्रमुख जांच एजेंसी सीबीआई अब आर्ट ऑफ लिविंग के संस्थापक श्री श्री रविशंकर की शरण में हैं। श्री रविशंकर सीबीआई के कर्मचारियों को हौसला बढ़ाने और उनमें सकारात्मकता लाने की कोशिश करेंगे। इसके लिए सीबीआई मुख्यालय में आज से तीन दिनों की वर्कशॉप का आयोजन होने जा रहा है। वर्कशॉप में 150 अधिकारी भाग ले रहे हैं। वर्कशॉप के पहले दिन का आगाज हो चुका है। श्री श्री रविशंकर की सीबीआई मुख्यालय पर कांग्रेस ने सवाल उठाए हैं। सीबीआई की प्रेस विज्ञप्ति के अनुसार, सीबीआई के अंदर कामकाज और अफसरों के जीवन में सकारात्मकता लाने, तालमेल बेहतर करने और खुशनुमा माहौल बनाने के लिए श्री श्री की वर्कशॉप कराई जा रही है।

CBI निदेशक आलोक वर्मा दूसरे दिन भी पहुंचे सीवीसी मुख्‍यालय, दर्ज कराया अपना पक्ष

बताया जा रहा है कि इस वर्कशॉप में सीबीआई में इंस्पेक्टर रैंक और उससे ऊपर के अधिकारी भाग लेंगे। बता दें कि यह वर्कशॉप तीन दिनों (10, 11 और 12 नवंबर) तक चलेगी जिसकी शुरुआत आज से होने जा रही है। श्री श्री रविशंकर ऑर्ट ऑफ लिविंग के संस्थापक हैं।

सीबीआई विवाद: पूर्व स्पेशल डायरेक्टर का मोदी सरकार पर आरोप, कहा- अस्थाना के लिए मुझे हटाया था
सीबीआई के अंदर मचा है बवाल
बीते कई दिनों से सीबीआई के अंदर दो वरिष्ठ अधिकारियों के बीच तनातनी चल रही है। जहां एक ओर सीबीआई के निदेशक आलोक वर्मा ने दो नंबर के अधिकारी राकेश अस्थाना पर दो करोड़ रुपए के घुस लेने का आरोप लगाया तो वहीं राकेश अस्थाना ने भी आलोक वर्मा पर भ्रष्टाचार के कई आरोप लगा दिए। इसके बाद से दोनों के बीच घमासान मचा हुआ है। इसको लेकर सरकार की भी किरकिरी होने लगी तो मोदी सरकार ने सीवीसी की अनुशंसा पर कार्रवाई करते हुए दोनों अधिकारियों को लंबी छुट्टी पर भेज दिया। इसको लेकर अब राजनीति भी गरमा गई है। मामला कोर्ट तक पहुंच चुका है। उधर इस मामले पर सियासत भी जारी है। विपक्ष लगातार मोदी सरकार पर हमला बोल रहा है। कांग्रेस का कहना है कि रफाल विमान सौदे की जांच से बचने के लिए सरकार ने आलोक वर्मा को छुट्टी पर भेजा है।

Ad Block is Banned