चीन और भूटान सीमा पर सख्त हुई सरकार, 72 नई चौकियां के साथ एक हजार से अधिक SSB के जवान तैनात

सीमा पर दुश्मनों को सबक सिखाने के लिए सरकार ने बड़ी तैयारी कर ली है। चीन, भूटान और नेपाल से लगने वाले बॉर्डर की सुरक्षा के लिए बड़े कदम उठाए गए हैं।

नई दिल्ली। डोकलाम को लेकर चीन से चले लंबे विवाद के बाद अब भारत ने सीमावर्ती क्षेत्रों में निगरानी और पुख्ता करने की ठान ली है। इसी के तहत चीन से सटे सिक्किम और अरुणाचल प्रदेश की सीमा पर सशस्त्र सीमा बल (एसएसबी) की 18 नई चौकियां बनाई गई हैं। इन चौकियों में अत्याधुनिक हथियारों से लैस एक हजार से अधिक जवान तैनात किए गए हैं।

सीमा पर निगरानी के लिए 72 नई चौकियां

1751 किलोमीटर लंबी भारत नेपाल सीमा और 639 किलोमीटर लंबी भारत भूटान सीमा पर भी सुरक्षा इंताजाम को और मजूबत बनाया गया है। एसएसबी के महानिदेशक सुरजीत सिंह देसवाल ने बताया कि इन इलाकों की निगरानी करने वाले बल की इस साल 72 नई चौकियां यानी 'बार्डर आउट पोस्ट' खोली गई हैं। जिनमें 3 सिक्किम और 15 अरुणाचल प्रदेश में हैं। ये चौकी भूटान से लगती सीमा के पास हैं।

देशभर में सीमा पर SSB की कुल 708 चौकियां

सीमावर्ती इलाकों में नई चौकियों की स्थापना के बाद एसएसबी की देश में कुल चौकियों की संख्या 708 पहुंच गई है। देसवाल ने कहा कि दूर दराज के सभी सीमावर्ती क्षेत्रों में स्थित चौकियों तक संपर्क मार्ग बनाना सरकार की प्राथमिकता है। इसी को देखते हुए इन क्षेत्रों में तेज गति से सड़कों का निर्माण किया जा रहा है। साथ ही सरकार सभी चौकियों पर अन्य सुरक्षा साजो-सामान और ढांचागत संरचनाओं का भी तेज रफ्तार से विकास कर रही है।

डोकलाम विवाद के बाद सजग सरकार

खबर के मुताबिक सरकार सिक्किम सेक्टर में चीन और भूटान से लगते बॉर्डर क्षेत्र में अत्यधिक सख्ती दिखा रही है। डोकलाम में जिस स्थान पर पिछले साल (16 जून से 28 अगस्त) चीनी सैनिकों के भारतीय सैनिकों के साथ लगभग ढाई महीने गतिरोध चला था, उसे लेकर सरकार चौकन्नी है। सेना और सुरक्षा बलों को इस क्षेत्र की सभी गतिविधियों पर कड़ी नजर रखने के लिए कहा गया है।

Show More
Chandra Prakash Content Writing
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned