Covid-19 के साथ जीने की योजना बना रही हैं राज्य सरकारें, केरल के प्रस्ताव पर सहमति के आसार

  • कोरोना के साथ आगे बढ़ने को लेकर केरल ने रखा नया प्रस्ताव
  • पंजाब सरकार ने टास्क फोर्स गठित कर आगे बढ़ने के दिए संकेत
  • यूपी, बिहार, दिल्ली और पूर्वोत्तर के कई राज्यों ने भी दिखाई रुचि

नई दिल्ली। कोरोना वायरस ( coronavirus ) संकट और लॉकडाउन 3.0 ( Lockdown 3.0 ) के बीच केंद्र व राज्य सरकारों ( Central and State Government ) के बीच लगातार बातचीत का सिलसिला जारी है। इस मामले में अब राज्य सरकारें अपनी मंशा जाहिर करने लगी हैं। इस बीच केरल ने कोरोना वायरस संकट को ध्यान में रखते हुए एक प्रस्ताव सभी के सामने रखा है।

इस प्रस्ताव में पंजाब, यूपी बिहार और पूर्वोत्तर के कई राज्यों ने रुचि दिखाई है। इस प्रस्ताव को लेकर आगे बढ़ने के संकेत भी दिए हैं।

केरल सरकार के प्रस्ताव ( Kerala Government Proposal ) में कहा गया है कि बुजुर्ग और बीमारी की चपेट में आने की आशंका वाले लोगों को छोड़कर सभी को काम पर जाने दिया जाए। केरल ने कहा है कि ऐसे लोगों की काम के दौरान सतत स्क्रीनिंग की जा सकती है। अगर इनमें कोई लक्षण विकसित होते हैं तो इन्हें क्वारंटाइन और इलाज करना होगा। इसके साथ ही हमें अपनी अर्थव्यवस्था को धीरे-धीरे खोलना होगा।

केरल सरकार का कहना है कि राज्य सरकार के सामने बड़ी चुनौती बाहरी देशों से आने वाले लोग भी हैं। केरल सरकार ने कहा है कि आने वाले कुछ महीनों में करीब एक लाख ऐसे लोग केरल में विदेशों से लौटेंगे जिनकी नौकरी बाहरी देशों में जा चुकी होगी। हमें उनका भी ख्यान रखना होगा। साथ ही उनकी स्क्रीनिंग भी करनी होगी।

पैरामिलिट्री फोर्स : 600 से ज्यादा जवान कोरोना पीड़ित, BSF के 250 और CRPF के 234

इस दिशा में काम करते हुए पंजाब सरकार ने लॉकडाउन खोलने के लिए बनाई गई टास्क फोर्स की रिपोर्ट पर क्रमिक तरीके से अमल शुरू कर दिया है।

जानकारी के मुताबिक उत्तर प्रदेश, बिहार, पंजाब और पूर्वोत्तर के कई राज्य ज्यादा पैमाने पर गतिविधियों को शुरू करने का संकेत दे चुके हैं। केरल के अलावे भी कई राज्य सरकार इस पक्ष में हैं कि जिन्हें खतरे की आशंका है, उनको छोड अन्य को काम शुरू करने की इजाजत मिलनी चाहिए।

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ( CM Arvind Kejriwal ) ने 4 मई को एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा था कि कोरोना वायरस अब हमारे बीच हमेशा बना रहेगा। इसलिए हमें इसके साथ जीना सीखना होगा। इसके डर से ज्यादा समय तक घर में सभी को रोकना उचित नहीं होगा। साथ ही कोरोना वायरस के लिए वैक्सीन और दवाईयों के निर्माण को लेकर गंभीर प्रयास जारी रखने होंगे।

coronavirus
Dhirendra Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned