बिहार के कई शहरों में जलजमाव के कारण छात्रों ने की बीपीएससी परीक्षा तिथि आगे बढ़ाने की मांग

बिहार के कई शहरों में जलजमाव के कारण छात्रों ने की बीपीएससी परीक्षा तिथि आगे बढ़ाने की मांग

बिहार में पिछले दिनों कई दिनों तक हुई लगातार बारिश के कारण कई शहरों में जलजमाव के कारण लोगों का जनजीवन अस्त-व्यस्त हो गया है।

पटना : पिछले दिनों लगातार कई दिनों तक हुई मूसलाधार बारिश के कारण पूरे बिहार और राजधानी पटना बाढ़ में डूबा हुआ है। इस कारण 15 अक्टूबर को होने वाले बिहार लोक सेवा आयोग (बीपीएससी) की प्रारंभिक परीक्षा के दौरान परीक्षार्थियों को अपने सेंटर तक जाने में काफी परेशानी का सामना करना पड़ेगा। इस कारण परीक्षार्थी परीक्षा की तिथि आगे बढ़ाने की मांग कर रहे हैं। लेकिन बिहार सरकार के अधीन बिहार लोकसेवा आयोग इसी दिन परीक्षा कराने पर तुला नजर आ रहा है। आयोग ने 3 अक्टूबर को विज्ञप्ति जारी कर परीक्षार्थियों को सूचित किया कि वह 15 अक्टूबर को होने वाली परीक्षा के लिए पांच अक्टूबर से एडमिट कार्ड डाउनलोड कर सकते हैं।

चार लाख से ज्यादा हैं परीक्षार्थी

एक अनुमान है कि इस परीक्षा के लिए चार लाख से ज्यादा लोगों ने आवेदन किया है। ऐसे में बिहार के अलग-अलग शहरों में होने वाली परीक्षा के लिए परीक्षार्थियों का केंद्रों तक पहुंचना मुश्किल होगा। उनके लिए वहां तक जाना और परीक्षा केंद्र ढूंढ़ना आसान नहीं होगा और इस कारण कइयों की परीक्षा छूटने के आसार हैं। बता दें कि जलजमाव देखकर ऐसा नहीं लगता कि दो-चार दिन में पूरे बिहार का जनजीवन ढर्रे पर आ जाएगा। छात्रों का कहना है कि ऐसे में चार लाख से ज्यादा लोगों का जीवन दांव पर लग जाएगा।

परीक्षार्थियों ने की तिथि आगे बढ़ाने की मांग

राज्य में बाढ़ और जलजमाव के कारण जान-माल की काफी क्षति हुई है और कई शहरों में अब भी बाढ़ का पानी जमा है। राजधानी पटना में अब भी अधिकतर जगहों पर जलजमाव बना हुआ है। शहर के एक इलाके से दूसरे इलाके में जाना लोगों के लिए मुसीबत बना हुआ है। पानी की निकासी नहीं होने के कारण लोगों का जनजीवन अस्त-व्यस्त है। वहीं जिन इलाकों में पानी धीरे-धीरे उतर रहा है, वहां महामारी फैलने का खतरा बढ़ गया है। इस बीच 15 अक्टूबर को बीपीएससी की होने वाली परीक्षा की तिथि की को आगे बढ़ाने की मांग को लेकर कई छात्र सामने आने लगे हैं।

सोशल मीडिया पर भी हो रहा है विरोध

अपनी मांग को लेकर परीक्षार्थी सोशल मीडिया पर भी विरोध जता रहे हैं। एक छात्र आशुतोष कुमार पांडेय ने फेसबुक पर बीपीएससी के चैयरमैन से परीक्षा तिथि आगे बढ़ाने का आग्रह किया है। उसने लिखा है कि बिहार के अलग-अलग इलाकों में बाढ़ और हथिया का पानी जमा है। राजधानी के लगभग आधे हिस्से में भी पानी जमा है। इस दौरान आयोग की 65वीं परीक्षा के लिए एडमिट कार्ड जारी हो गए हैं। परीक्षा 15 अक्टूबर को है। अनुमानत: इस परीक्षा में चार लाख साढ़े ग्यारह हजार परीक्षार्थी शामिल होंगे। ऐसे में उन्हें परीक्षा केंद्र खोजने और वहां पहुंचने में परेशानियों का सामना करना पड़ेगा।

परीक्षार्थियों की मांग के समर्थन में उतरे पप्पू यादव

इस बीच जन अधिकार पार्टी के प्रमुख पप्पू यादव भी परीक्षा स्थगित करने के मांग के समर्थन में उतर आए हैं। पूर्व सांसद ने कहा कि अपना चेहरा बचाने के लिए नीतीश सरकार कुछ भी कर सकती है। बीपीएससी परीक्षा हो या शिक्षक नियोजन सभी में बिहार से बाहर रहने वाले छात्र भी शामिल होते हैं। ऐसे में छात्रों को बाढ़ और जलजमाव से परेशानी होगी, लेकिन सरकार इन तय तिथियों को आगे नहीं बढ़ाएगी, क्योंकि नीतीश कुमार का चेहरा इससे धूमिल होगा कि जलजमाव के कारण परीक्षा की तिथि बढ़ानी पड़ी। नीतीश जी को केवल कुर्सी प्यारी है। यह आज साबित हो गया।

Show More
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned