चक्रवाती तूफान तौकते का कहर : समुद्र के बीच में फंसे थे 21 लोग, कोस्ट गार्ड ने इस तरह बचाई जान

देश के दक्षिण पश्चिम राज्यों पर चक्रवाती तूफान तौकते (Tauktae) का साया मंडरा रहा है। अरब सागर से उठे चक्रवाती तूफान में कुछ लोग मारे भी गए हैं। इस बीच रेस्क्यू ऑपरेशन भी जारी है।

नई दिल्ली। देश के दक्षिण पश्चिम राज्यों पर चक्रवाती तूफान तौकते (Tauktae) का साया मंडरा रहा है। केरल, कर्नाटक, महाराष्ट्र और गोवा में तबाही मचाने के बाद यह चक्रवाती तूफान तेजी से आगे बढ़ रहा है। अरब सागर से उठे चक्रवाती तूफान में कुछ लोग मारे भी गए हैं। इस बीच रेस्क्यू ऑपरेशन भी जारी है। भारतीय तटरक्षक बल (आईसीजी) की ओर से सोमवार को बताया गया कि चक्रवात तौकते के कारण कोच्चि तट से कुछ दूरी पर उफनते सागर के बीच 12 मछुआरे फंस गए थे। आईसीजी ने सभी को 16 मई को बचा लिया गया है। भारत मौसम विभाग (आईएमडी) ने सोमवार को कहा कि यह तूफान विकराल चक्रवाती तूफान में बदल गया है। यह तूफान शाम तक गुजरात के तट तक पहुंचने का अनुमान है।

यह भी पढ़ें :— आज गुजरात के तटीय क्षेत्रों से टकरा सकता है Cyclone Tauktae, महाराष्ट्र समेत इन राज्यों में बदला मौसम का मिजाज

35 मील समुद्र में फंसे थे
भारतीय तटरक्षक बल (आईसीजी) की ओर से ट्वीट कर मछुआरों के बारे में बताया है। आईसीजी ने ट्वीट में लिखा कि भारतीय मछुआरों की जीसस नाम की नाव कोच्चि से 35 समुद्री मील की दूरी पर फंसी हुई थी। आईसीजी के पोत आर्यमान ने उस नौका तथा उस पर फंसे 12 लोगों को सुरक्षित बचा लिया गया। उफनते समुद्र के बीच से इन्हें 16 मई की रात को कोच्चि लाया गया। नौका सवार सभी लोग सुरक्षित और स्वस्थ हैं।

बीच समंदर फंसे 9 लोगों को बचाया
नेवी और कोस्ट गार्ड मिलकर रेस्क्यू ऑपरेशन चला रहे है। दोनों ने समुद्र में बीच में फंसे 9 लोगों को बचाया है। ये लोग कर्नाटक के पास मल्की चट्टान पर फंसे हुए थे। एक रिपोर्ट के अनुसार, यह सभी एक टगबोट 'कोरोमंडल सरेंडर IX' के क्रू मेंबर्स थे। इनकी बोट मंगलोर तट पर मल्की चट्टान पर फंस गई थी। 5 लोगों को कोस्ट गार्ड के वराह जहाज ने रेस्क्यू किया और चार नेवी के IN702 हेलीकॉप्टर ने बचा गया।

यह भी पढ़ेँः Cyclone Tauktae के चलते दिल्ली-गाजियाबाद ईएमयू समेत गुजरात से आने वाली कई ट्रेनें रद्द, देखें पूरी लिस्ट

210 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से हवा चलाने का अनुमान
चक्रवाती तूफान को लेकर मौसम विभाग ने कहा कि यह तूफान सोमवार तड़के से विकराल रूप धारण कर लिया है। विभाग ने पहले इसके विकराल रूप लेने का कोई अनुमान नहीं लगाया था। इसके कारण अब 180-190 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से हवाएं चल रही हैं। जिसके 210 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से चलने का अनुमान है। आईएमडी ने हालांकि कहा कि गुजरात तट पर पहुंचने पर तूफान की विकरालता कम होगी।

Shaitan Prajapat
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned