कश्मीर में CRPF कैंप पर फिर आतंकी हमला, सीमा पर PAK सेना ने किया युद्ध विराम का उल्लघंन

mohit1 sharma

Publish: Feb, 15 2018 09:33:55 (IST)

Miscellenous India
कश्मीर में CRPF कैंप पर फिर आतंकी हमला, सीमा पर PAK सेना ने किया युद्ध विराम का उल्लघंन

रुवार को कश्मीर में आतंकियों ने एक बार फिर सुरक्षाबलों को निशाना बनाया।

नई दिल्ली। आतंकवाद को सींचने पर लगा पाकिस्तान अपनी नापाक हरकतों से बाज नहीं आ रहा है। एक ओर जहां पाक सेना सीमा पर लगातार युद्ध विराम का उल्लघंन कर रही है, वहीं गुरुवार को कश्मीर में आतंकियों ने एक बार फिर सुरक्षाबलों को निशाना बनाया। आतंकियों ने जवानों के कैंप पर हमला कर बड़ी घटना को अंजाम देने का प्रयास किया। जानकारी के अनुसार यह हमला कुपवाड़ा के अवंतीपुरा में हुआ है। यहां आतंकियों ने CRPF कैंप के पास गोलीबारी शुरू कर दी। जिसके जवाब में जवानों ने भी गोलीबारी शुरू कर दी है। बता दें कि इससे पहले सुंजवां सेना कैंप पर हमला बोला था।

पाक सेना ने तोड़ा सीजफायर

उधर, जम्मू एवं कश्मीर के पुंछ जिले में सेना ने गुरुवार को नियंत्रण रेखा (एलओसी) पर पाकिस्तान की ओर से आतंकवादियों की घुसपैठ की कोशिश को नाकाम करते हुए दो आतंकियों को मार गिराया। सेना के सूत्रों ने इस बात की जानकारी दी। सूत्र ने कहा कि सतर्क जवानों ने गुरुवार तड़के बालाकोट क्षेत्र में नियंत्रण रेखा पर संदिग्ध गतिविधियां देखीं। इसके बाद सैनिकों और आतंकियों के बीच गोलीबारी हुई जिसमें दो आतंकियों को मार गिराया गया। क्षेत्र में तलाशी अभियान चलाया जा रहा है। पाकिस्तानी सेना ने बुधवार को राजौरी जिले के नौशेरा सेक्टर में नियंत्रण रेखा पर संघर्षविराम का उल्लंघन किया था। सूत्र ने कहा कि शाम करीब सात बजे छोटे व स्वचालित हथियारों और मोर्टार के इस्तेमाल से संघर्षविराम का उल्लंघन किया गया। भारतीय पक्ष ने भी इसका करारा जवाब दिया।

राष्ट्र रक्षा महायज्ञ को एकता

केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने बुधवार को राष्ट्र रक्षा महायज्ञ को एकता और और राष्ट्र की अखंडता का प्रतीक बताया। उन्होंने कहा कि भारत पूरी दुनिया के कल्याण के लिए एक शक्तिशाली राष्ट्र बनना चाहता है न कि किसी को डराने के लिए। नई दिल्ली स्थित इंडिया गेट से रथयात्रा को रवाना करते हुए गृहमंत्री ने कहा कि इस (राष्ट्र महायज्ञ) का उद्देश्य हमारे देश को अधिक समृद्ध और ताकतवर बनाना है। इस यात्रा के माध्य से राष्ट्रीय राजधानी में 18-25 मार्च के बीच होने वाले एक सप्ताह के यज्ञ के लिए मिट्टी और जल संग्रह किया जाएगा। गृहमंत्री ने कहा कि इसका अभिप्राय किसी दूसरे देश को भयभीत करना नहीं, बल्कि शेष दुनिया की सेवा करना है और यह सुनिश्चित करना है कि भारत फिर विश्वगुरु का स्थान धारण करता है।

1
Ad Block is Banned