मुगलिया नाम बदलने का सिलसिला जारी, फैजाबाद- मुगलसराय के बाद अब इन शहरों की बारी

मुगलिया नाम बदलने का सिलसिला जारी, फैजाबाद- मुगलसराय के बाद अब इन शहरों की बारी

Shiwani Singh | Publish: Nov, 10 2018 12:51:33 PM (IST) | Updated: Nov, 10 2018 12:51:34 PM (IST) इंडिया की अन्‍य खबरें

मुगलसराय, इलाहाबाद, फैजाबाद जैसे शहरों का नाम बदल दिया गया है। अब देश के कई अन्य अहमदाबाद, औरंगाबाद जैसे शहरों के नाम बदलने को लेकर चर्चाएं लगातार जारी हैं।

नई दिल्ली। शहरों के नाम बदलने का सिलसिला कई सालों से जारी है, लेकिन साल 2018 नाम बदलने के लिजाह से हमेशा याद किया जाएगा। मोदी सरकार के कार्यकाल में इस साल कई शहरों के नाम बदल दिए गए हैं और कईयों के नाम बदलने को लेकर चर्चाएं जारी हैं। यूपी के कई ऐसे शहर मुगलसराय, इलाहाबाद, फैजाबाद के नाम बदल दिए गए हैं। वहीं, देश के अन्य शहर अहमदाबाद, हैदराबाद और औरंगाबाद के नाम बदलने को लोकर चर्चाएं शुरू हो गई हैं।

यह भी पढ़ें-भाई के तलाक विवाद के बीच पिता लालू प्रसाद यादव से मिले तेजस्वी यदाव, बहन रागिनी भी साथ

इन जगहों के बदल चुके हैं नाम-

आइए आपको बताते हैं कि किन शहरों का नाम बदल चुका है और किन के नाम बदलने को लेकर चर्चाएं जारी हैं।

फैजाबाद का बदला नाम

उत्तर प्रदेश की योगी सरकार ने दिवाली से ठीक एक दिन पहले फैजाबाद का नाम बदलकर अयोध्या करने का ऐलान किया है। सीएम योगी आदित्यनाथ के सता में आते ही फैजाबाद का नाम बदलने को लेकर चर्चा हो रही थी, जिस पर इस साल दिवाली में मुहर लगा दी गई।

इलाहाबाद से प्रयागराज

उत्तर प्रदेश में तीन शहरों के नाम बदले गए हैं, इससे से एक इलाहाबाद भी है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने 6 अक्टूबर को इलाहाबाद शहर का नाम बदलकर प्रयागराज कर दिया। बता दें कि यूपी में सत्ता संभालने के बाद जब वह इलाहाबाद आए थे, तभी उन्होंने शहर के नाम बदलने के संकेत दिए थे।

मुगलसराय से पं. दीनदयाल उपाध्याय

आपको बता दें कि योगी सरकार ने सबसे पहले मुगलसराय जंक्शन का नाम बदल कर पंडित दीनदयाल उपाध्याय जंक्शन कर दिया। इसे लेकर काफी विवाद भी हुआ था, लेकिन यूपी सरकार ने तर्क दिया कि जनसंघ के संस्थापक दीनदयाल उपाध्याय मुगलसराय रेलवे यार्ड में 11 फरवरी 1968 को मृत पाए गए थे। यह जगह उनकी कई यादें से जुड़ी हैं, इसलिए मई 2018 में मुगलसराय का नाम बदल कर पंडित दीनदयाल उपाध्याय कर दिया गया।

गुड़गांव हुआ गुरुग्राम

नाम बदलने में हरियाणा की खट्टर सरकार सबसे आगे है। अप्रैल 2016 में गुड़गांव का नाम बदलकर गुरुग्राम कर दिया। ऐसा दावा किया गया कि यह द्रोणाचार्य का शहर है, इसलिए गुरुग्राम नाम ज्यादा अच्छा होगा।

बदल सकता है मुजफ्फरनगर का नाम

यूपी के अन्य जिलों की तर्ज पर मुजफ्फरनगर का नाम बदलने को लेकर चर्चाएं जारी हैं। बीजेपी विधायक संगीत सोम ने कई बार मुजफ्फरनगर का नाम 'लक्ष्मीनगर' रखने की मांग की है। इस बारे में संगीत सोम ने कहा कि मुगलों ने यहां की संस्कृति को मिटाने का काम किया है।

लखनऊ का भी बदल सकता है नाम

एक कार्यक्रम में मीडिया से बात करते हुए बिहर के गवर्नर लालजी टंडन ने बताया कि जब अंग्रेजों ने लखनऊ पर कब्जा कर लिया तो नाचते हुए कहा था कि 'लक नाउ' यानी आज हमारा भाग्य जग गया, और Luck Now ही बाद में लखनऊ बन गया। टंडन ने कहा कि लखनऊ का नाम बदलकर लक्ष्मणपुर कर दिया जाना चाहिए, क्योंकि लखनऊ को लक्ष्मण ने बसाया था.

अहमदाबाद का भी बदलेगा नाम

गुजरात के अहमदाबाद शहर का नाम बदलने को लेकर भी चर्चाएं शुरू हो गई हैं। उपमुख्‍यमंत्री नितिन पटेल का कहना है कि लंबे समय से अहमदाबाद का नाम बदलने की मांग हो रही थी, लोगों की मांग थी कि इस शहर का नाम कर्णावती रखा जाए। अहमदाबाद के लोगों को कर्णावती नाम पसंद है।

यह भी पढ़ें-CBI को सुधारेंगे श्री श्री रविशंकर, अधिकारियों को देंगे 'दिव्य ज्ञान'

हैदराबाद बनेगा भाग्यनगर?

वही, हैदराबाद का नाम बदले को लेकर चर्चाओं का बाजार गर्म है। हैदराबाद से बीजेपी के निवर्तमान विधायक टी राजा का कहना है कि अगर सत्ता में बीजेपी आई तो हैदराबाद का नाम बदलकर भाग्यनगर रख दिया जाएगा।

औरंगाबाद और उस्मानाबाद का भी बदल सकता है नाम

महाराष्ट्र से भी कई शहरों के नाम बदले को कर आवाजे उठने लगी हैं। बता दें कि औरंगाबाद और उस्मानाबाद का नाम बदलने की बात शिवसेना ने की है। शिवसेना ने औरंगाबाद का नाम संभाजी नगर और उस्मानाबाद का नाम धाराशिव करने की मांग की है।

Ad Block is Banned