केरल के तीन ड्राइवरों ने जीती 41 करोड़ की लॉटरी, कोरोना के चलते कंगाल होने की कगार पर थे तीनों

Lottery Result: पूरी दुनिया इस वक्त कोरोना वायरस ( Coronavirus ) के संकट से जूझ रही है। कई देशों में लॉकडाउन ( Lockdown ) किया हुआ है। शॉप, मॉल-बाजार सब कुछ बंद है। जिससे लोगों की आमदनी पर भी बुरा असर पड़ा है। लेकिन, किस्मत कब और कहा बदल जाए कुछ नहीं कहा जा सकता है। ऐसा ही हुआ जब कोरोना ( COVID-19 ) के चलते बर्बाद होने की कगार पर आए तीन भारतीय ड्राइवर रातोंरात करोड़पति ( Overnight Millionaire ) बन गए। इन्होंने दुबई में जैकपॉट लॉटरी ( Jackpot Lottery ) में करीब 41 करोड़ रुपए जीते है।

नई दिल्ली।
Lottery Result: पूरी दुनिया इस वक्त कोरोना वायरस ( coronavirus ) के संकट से जूझ रही है। इस महामारी को रोकने के लिए कई देशों में लॉकडाउन ( Lockdown ) किया हुआ है। शॉप, मॉल-बाजार सब कुछ बंद है। जिससे लोगों की आमदनी पर भी बुरा असर पड़ा है। लेकिन, किस्मत कब और कहा बदल जाए कुछ नहीं कहा जा सकता है। ऐसा ही हुआ जब कोरोना ( COVID-19 ) के चलते बर्बाद होने की कगार पर आए तीन भारतीय ड्राइवर रातोंरात करोड़पति ( Overnight Millionaire ) बन गए। ये तीनों केरल के रहने वाले हैं और दुबई में टैक्सी चलाने के काम करते हैं। इन्होंने दुबई में जैकपॉट लॉटरी ( Jackpot Lottery ) में करीब 41 करोड़ रुपए जीते है।

देश में लॉकडाउन के बाद खुलेंगे स्कूल और कॉलेज ? 14 अप्रैल को होगी समीक्षा: HRD मंत्री

बर्बाद होने की कगार पर थे तीनों
खलीज टाइम्स की रिपोर्ट के अनुसार, लॉटरी जिजेश कोरोथन के नाम निकली थी। उसने अपने दोस्त शाहजहां कुट्टिकट्टिल और शनोज बालकृष्णन के साथ मिलकर लॉटरी का टिकट खरीदा था। अब तीनों ने इनाम की राशि आपस में बांटने का निर्णय लिया है। जिजेश ने बताया, दुबई में कुछ दिनों पहले ही लग्जरी गाड़ी चलाने का काम शुरू किया था। जिसके लिए लोन उठाया था। लेकिन, कोरोना वायरस ( Coronavirus ) के चलते टूरिज्म सेक्टर पूरी तरह ठप हो गया। ऐसे में हमारा काम भी बंद हो चुका था। हालत इतनी खराब हो चुकी थी कि वापस केरल लौटने की तैयारी में थे। आर्थिक तंगी के चलते कार की ईएमआई भी नहीं भर पा रहे थे। इसलिए उसे भी बेचकर कर्ज चुकाने वाले थे। लेकिन, एनवक्त पर हमारी किस्मत जाग उठी। हमने लॉटरी में करीब 41 करोड़ की राशि जीती है।

कर्ज चुका बिजनेस में करेंगे खर्च
जिजेश ने बताया , इस राशि से पहले वे पहले कर्ज चुकाएंगे। इसके बाद बची हुई राशि को बिजनेस और बेटी की शिक्षा पर खर्च करेंगे। उन्होंने कहा कि यह लॉटरी हमारे जीवनदान की तरह मिली है।

coronavirus COVID-19
Show More
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned