दिल्ली की सीमा पर दो और बुजुर्ग किसानों की संदिग्ध अवस्था में मौत

Highlights

  • जिला मोगा के गांव सैद मोहम्मद के बुजुर्ग किसान हंसा सिंह 73 की संदिग्ध अवस्था में मौत हो गई।
  • राजबीर उर्फ बीरे 60 की बुधवार की रात को तबीयत खराब होने के बाद मौत हो गई।

नई दिल्ली। कुंडली धरना स्थल पर दो किसानों की संदिग्ध स्थिति में मौत हो गई। उनका शव पोस्टमार्टम के लिए लिए सामान्य अस्पताल में रखवाया गया है। वहीं सिसाना के किसान के शव का परिजनों ने बिना पोस्टमार्टम कराए अंतिम संस्कार कर दिया। पंजाब के जिला मोगा के गांव सैद मोहम्मद के बुजुर्ग किसान हंसा सिंह 73 की संदिग्ध अवस्था में मौत हो गई।

राहुल गांधी पर स्मृति ईरानी ने किया पलटवार, कहा- कभी अपने क्षेत्र को लेकर सदन में चर्चा नहीं की

वह दो माह से कुंडली धरना स्थल पर डटे थे। हंसा सिंह के परिजनों को अवगत करा गया है। वे बेसुध होकर अचानक गिर पड़े। उन्हें चिकित्सक ने मृत घोषित कर दिया। शव को पोस्टमार्टम के लिए सामान्य अस्पताल में रखवा दिया है।

वहीं मूलरूप से गांव सिसाना फिलहाल सोनीपत में रह रहे राजबीर उर्फ बीरे 60 की बुधवार की रात को तबीयत खराब होने के बाद मौत हो गई। राजबीर के बेटे नीटू के अनुसार दो माह से लगातार उसके पिता कुंडली बॉर्डर पर चल रहे धरने पर किसानों के साथ बैठे हुए थे।

बुधवार को साथी किसानों ने उन्हें फोन कर उसके पिता की तबीयत खराब होने की सूचना दी। वह मौके पर पहुंचा तो उनकी मौत हो गई थी। नीटू के अनुसार उन्होंने अपने पिता का पोस्टमार्टम नहीं करवाया। गुरुवार को शव का अंतिम संस्कार किया गया।

Mohit Saxena
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned