चीफ जस्टिस को नई चिट्ठीः 'फुल कोर्ट मीटिंग' से होगा अदालत की 'सुप्रीम' समस्या का समाधान?

महाभियोग प्रस्ताव खारिज किए जाने के महज दो दिनों बाद फिर सुप्रीम कोर्ट के दो जजों ने मुख्य न्यायाधीश जस्टिस दीपक मिश्रा को चिट्ठी लिखी है।

By:

Published: 25 Apr 2018, 12:13 PM IST

नई दिल्ली। देशभर के विवादितों मुद्दों का अंतिम समाधान करने वाली सुप्रीम कोर्ट खुद इन दिनों विवादों से घिरी है। महाभियोग प्रस्ताव खारिज किए जाने के महज दो दिनों बाद सुप्रीम कोर्ट के दो जजों ने फिर मुख्य न्यायाधीश जस्टिस दीपक मिश्रा को चिट्ठी लिखी है। इस चिट्ठी में शीर्ष कोर्ट से जुड़े विवादित मुद्दों और संस्था के भविष्य पर विचार करने की जरूरत पर जोर दिया गया है। इसके साथ ही एक फुल कोर्ट मीटिंग बुलाने की भी मांग की गई है। हालांकि सूत्रों के मुताबिक इस चिट्ठी पर अभी मुख्य न्यायाधीश ने कोई प्रतिक्रिया नहीं दी है।

क्या है फुल कोर्ट मीटिंग
फुल कोर्ट मीटिंग तब बुलाई जाती है जब न्यायपालिका से जुड़े किसी जनहित के मुद्दे पर चर्चा करनी हो। आमतौर पर ऐसी बैठक का संयोजन सुप्रीम कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश करते हैं। इस मीटिंग में सभी न्यायाधीश शिरकत करते हैं।

टी-पार्टी में भी उठाया था मुद्दा
इससे पहले जस्टिस रंजन गोगोई और जस्टिस मदन भीमराव लोकुर ने रोजाना होने वाली चाय पर चर्चा में भी उठाया था। इसके पहले जनवरी में चार जजों ने सुप्रीम कोर्ट की व्यवस्था से नाराज होकर एक प्रेस कॉन्फ्रेंस भी की थी। इस कॉन्फ्रेंस में इन दो जजों के अलावा जस्टिस जे चेलमेश्वर और जस्टिस कुरियन जोसेफ भी शामिल थे। उन्होंने कहा था कि सुप्रीम कोर्ट का प्रशासन ठीक तरह से काम नहीं कर रहा है और यदि संस्था को ठीक नहीं किया गया, तो लोकतंत्र खत्म हो जाएगा।

महाभियोगः सिब्बल बोले नहीं जाऊंगा सीजेआई दीपक मिश्रा की अदालत में, जानिए क्या है इसका राज

...पिछले हफ्ते भी दो जज लिख चुके हैं चिट्ठी
गौरतलब है कि कॉलेजियम के दो वरिष्ठ सदस्य एक हफ्ते पहले भी मुख्य न्यायाधीश को पत्र लिख चुके हैं। तब उन्होंने न्यायपालिका को सरकार के हस्तक्षेप से बचाने के लिए मुख्य न्यायाधीश अन्य न्यायाधीशों को भी शामिल करें। यह चिट्ठी सबसे वरिष्ठ जज जस्टिस जे चेलमेश्वर ने लिखी थी।

'महाभियोग का कोई औचित्य नहीं, ये जस्टिस मिश्रा नहीं सुप्रीम कोर्ट को बदनाम करने की साजिश'

Show More
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned