भारत भी आईएसआईएस के निशाने पर, यूएई ने चेताया

भारत भी आईएसआईएस के निशाने पर, यूएई ने चेताया
ISIS terrorist Khalid

हमें इस  खतरे से निपटने की जरूरत है और कोई भी अछूता नहीं है। अगर आप सोचते हैं कि आप बचे हुए हैं तो आप लापरवाही करने जा रहे, आप झेलने जा रहे।

नई दिल्ली। संयुक्त अरब अमीरात के विदेश राज्यमंत्री अनवर गरगाश ने भारत को आतंकी संगठन आईएस से सावधान रहने की चेतावनी दी है। उन्होंने कहा इस्लामिक स्टेट (आईएसआईएस) कहने वाले आतंकी संगठन के खतरे से भारत भी महफूज नहीं। दाइश नाम से भी जाने जाने इस आतंकी संगठन के खिलाफ लड़ाई में यूएई भी शामिल है। यूएई के शहजादे शेख मोहम्मद बिन जायेद अल नहयान की बुधवार से शुरू हो रही तीन दिवसीय भारत यात्रा से पहले गरगाश ने विशेष इंटरव्यू में कहा कि यह लंबी अवधि का खतरा है, इसके खिलाफ हमें आपसी सहयोग कायम करने और जीरो टालरेंस बनाने की जरूरत है।

हमें इस  खतरे से निपटने की जरूरत है और कोई भी अछूता नहीं है। अगर आप सोचते हैं कि आप बचे हुए हैं तो आप लापरवाही करने जा रहे, आप झेलने जा रहे। हर कोई-चाहे वह भारत हो या यूएई। पिछले साल अगस्त में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अबू धाबी यात्रा के बाद भारत और यूएई के बीच एक नई रणीतिक साझेदारी की शुरुआत हुई है, जिसमें दोनों देशों के बीच आतंकवाद रोधी सहयोग कहीं अधिक संस्थागत होने वाला है। पिछले कुछ दिनों इस खाड़ी देश ने आईएसआईएस से संदिग्ध संपर्क रखने को लेकर करीब एक दर्जन भारतीयों को स्वदेश भेजा है।

गरगाश ने बताया कि आतंकवाद के खिलाफ द्विपक्षीय संबंध को मजबूत करना शाही यात्रा का एक अहम विषय होगा। उन्होंने कहा कि आतंकवाद पर द्विपक्षीय सहयोग बहुत अच्छा चल रहा है और आगामी 12 महीनों में यह कहीं अधिक संस्थागत होगा तथा कहीं बेहतर तरीके से काम करेगा। गरगाश ने बताया कि अगस्त में यहां की यात्रा के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की यूएई नेतृत्व के साथ चर्चा में ऐसा सहयोग एक अहम हिस्सा होगा।

वहीं आईएस से पैदा हुए खतरे का जिक्र करते हुए मंत्री ने कहा कि कोई भी देश अछूता नहीं है। हमें इस खतरे का मुकाबला करने के लिए किसी भी तरह के चरमपंथ और आतंकवाद के खिलाफ कहीं अधिक सहयोग की जरूरत है। उन्होंने कहा कि आतंकी संगठनों के बीच कोई भेदभाव नहीं होना चाहिए। कोई अच्छा या बुरा आतंकवादी नहीं है। गरगाश ने जोर देते हुए कहा कि यूएई भारत के खिलाफ पाकिस्तान को या पाकिस्तान के खिलाफ भारत को नहीं उकसा रहा। भारत वैश्विक और क्षेत्रीय स्तर पर एक बड़ी शक्तिहै और इसके साथ संबंध किसी तीसरे पक्ष से संबद्ध नहीं है।
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned