UIDAI ने आधार डाटा एक्सेस की सौदेबाजी का दावा किया खारिज, कहा सुरक्षित हैं आपकी निजी जानकारियां

UIDAI ने आधार कार्ड डाटा एक्सेस के सौदेबाजी के संबंध में छपी अखबार कि रिपोर्ट के दावों को खारिज किया है।

By:

Published: 04 Jan 2018, 02:18 PM IST

नई दिल्ली। UIDAI ने आधार कार्ड डाटा एक्सेस के सौदेबाजी के संबंध में छपी अखबार कि रिपोर्ट के दावों को खारिज किया है। उन्होंने इसे 'गलत रिपोर्टिंग' का मामला बताया है और या भी आश्वस्त किया है कि सबके आधार जानकारियां सुरक्षित है। भारत में आजकल हर दूसरे सुविधाओं के लिए आधार कार्ड अनिवार्य हो रहा है। यही नहीं सरकार और UIDAI हर बार यही दावा पेश करती रही है कि आधार कार्ड बिलकुल सुरक्षित है और उसमे शामिल सबकी निजी जानकारियों के लीक होने यह गलत इस्तेमाल होने का कोई खतरा नहीं है।

सिर्फ 500 रुपये में मिल जाता है करोड़ों आधार कार्ड का एक्सेस
एक खबर के मुताबिक कोई भी व्यक्ति बस 500 रूपए देकर किसी भी अन्य के आधार कार्ड की निजी जानकारी प्राप्त कर सकता है, वो भी मात्रा 10 मिनट में।
यह बात एक अंग्रेजी अखबार ने अपनी तहकीकात के बाद प्रकाशित की थी। उस रिपोर्ट के अनुसार उन्होंने सिर्फ 500 रूपए में करीब 100 करोड़ आधार कार्ड का एक्सेस खरीद लिया। और यह सौदा कहीं और नहीं बल्कि वॉट्सऐप के एक ग्रुप पर हुआ।
अखबार ने जानकारी में बताया कि इस तहकीकात में उन्हें एक एजेंट के बारे में पता चला, जिसने मात्रा 10 में एक गेटवे और लॉग-इन पासवर्ड दिया। इस गेटवे के बाद उन्हें सिर्फ आधार कार्ड नंबर डालना होता और इससे उन्हें किसी भी व्यक्ति के आधार पर दर्ज सभी निजी जानकारी मिल रही थी।

प्रिंट करने के एक्सेस के लिए अलग राशि
यही नहीं 300 रुपये के अतिरिक्त भुगतान पर उसने आधार कार्ड कि जानकारी को प्रिंट करने का भी एक्सेस दे दिया।बता दें कि इसके लिए एक अलग सॉफ्टवेयर था। बता दें कि जो जानकारियां पता लगाने का दावा था उनमे UIDAI में दर्ज नाम, पता, पिन कोड, फोटो, फोन नंबर, ईमेल आईडी आदि शामिल है।

UIDAI ने टेक्निकल टीम को जांच के आदेश दिए
मामले के बारे में जब UIDAI अफसरों को सूचित किया गया, तो उन्होंने इस पर तुरंत गंभीरता दिखाते हुए, इस मामले में बेंगलुरु की टेक्निकल टीम को जांच करने के लिए कहा।
चंडीगढ़ में UIDAI की रिजनल एडशिनल डॉयरेक्टर-जनरल, संजय जिंदल ने कहा की अगर यह सच है तो यह मामला वाकई चौकाने वाला था, और यह राष्ट्रीय सुरक्षा में अतिक्रमण जैसा था। उन्होंने कहा कि मेरे और डायरेक्टर-जनरल के अलावा यह लॉगिन आईडी और पासवर्ड किसी और के पास नहीं होना चाहिए।

बता दें कि अखबार के आने के बाद संजय जिंदल ने कहा था कि अभी UIDAI इस मामले में जांच करके जिसके बाद ही किसी तरह के निष्कर्ष पर पहुँचा जाएगा।

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned