Uttarakhand Disaster: सर्च ऑपरेशन में आज 3 शव बरामद, सुरंग की छत पर चिपके मिल रहे हैं लोग

  • Uttarakhand Disaster: सुरंग में लापता लोगों की तलाश अभी भी जारी
  • शवों की हालत बहुत खराब
  • पहचान करने में भी काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा

नई दिल्ली। उत्तराखंड के चमोली ग्लेशियर फटने से हुए हादसे में मरने वालों की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है। सोमवार को राहत व बचाव कार्य के अंतर्गत तीन और शव मिले हैं, जिसके बाद त्रासदी में मरने वालों की संख्या अब तक 54 हो गई है। चमोली पुलिस के अनुसार, बचाव अभियान के आठवें दिन रविवार को 13 और शव मिले थे। इनमें से 6 शव 520 मेगावाट की एनटीपीसी की तपोवन-विष्णुगाड परियोजना की सुरंग से मिले, जबकि 6 रैंणी से और 1 रूद्रप्रयाग जिले में नदी के किनारे से बरामद हुए।

उत्तराखंड त्रासदी: छोटा हरिद्वार में एकाएक बढ़ा जलस्तर, मंदिर जलमग्न, हाई अलर्ट जारी

untitled_3_6692000_835x547-m.png

शवों की हालत बहुत खराब

तपोवन टनल में फंसे लोगों के रेस्क्यू में बचाव कर्मियों को काफी मशक्कत करनी पड़ रही है। पुलिस अधिकारी के मुताबिक सुरंग में फंसे लोगों के शव सुरंग की छत पर चिपके मिल रहे हैं। शवों की हालत बहुत खराब हो गई है।

उन्होंने बताया, ‘ जेसीबी से जहां मलवा हटाने के दौरान एक शव नजर आया। शव की पहचान आलम सिंह के रूप में हुई। इसके कुछ ही दूरी पर एक दूसरा शव छत पर चिपका मिला। यहां मिल रहे सभी शवों की हालत बहुत खराब है। इसकी वजह से इनकी पहचान करने में भी काफी दिक्कत हो रही है।

उत्तराखंड त्रासदी में लापता युवक का केवल हाथ मिला, हाथ से ही हुआ अंतिम संस्कार

uttrakhand.jpg

सुरंग की छत पर चिपके हैं शव

एनटीपीसी के एक अधिकारी ने बताया की सुरंग में मौजूद लोगों ने बचने के लिए बाहर निकलने की कोशिश की होगी लेकिन वो बाहर नहीं निकल पाए और पानी के दबाव के कारण वे सुरंग की छत पर चिपक गए। अधिकारी ने बताय, ‘कुछ लोगों के शव छत पर बनीं स्टील रिब में फंसे हुए मिले’

बता दें उत्तराखंड के ऋषिगंगा क्षेत्र में आई त्रासदी के में 164 लापता लोगों की तलाश है। उत्तराखंड सरकार के मुताबिक रविवार सुबह तक मलबे में से 54 शव निकाले जा चुके हैं। इनमें से केवल 21 मृतकों की शिनाख्त हो सकी है जबकि 33 व्यक्तियों की शिनाख्त होना अभी बाकी है।

Vivhav Shukla
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned