चक्रवात 'वायु' मुड़ा ओमान की ओर, लेकिन गुजरात अब भी 24 घंटे के हाई अलर्ट पर

  • खतरे के मद्देनजर गुजरात में कई ट्रेनें-उड़ानें रद्द
  • बचाव के लिए सेना, एनडीआरएफ और कोस्ट गार्ड तैनात
  • तटीय इलाके से लोगों को सुरक्षित जगहों पर भेजा गया

नई दिल्ली। चक्रवाती तूफान 'वायु' गुजरात से अपना रास्ता बदल कर ओमान की तरफ मुड़ गया है। फिर भी गुजरात पर खतरा टला नहीं है। अगले 24 घंटे गुजरात के लिए भारी है। गुजरात के कई हिस्सों में तेज हवाएं और बारिश हो रही है। समुद्र में ऊंची-ऊंची लहरें उठ रही हैं। सुरक्षा के मद्देनजर कई ट्रेनों और उड़ानों को रद्द कर दिया गया है।

हालांकि, चक्रवात से निपटने के लिए केंद्र और राज्य सरकार ने तैयारियां पूरी कर रखी हैं। मोर्चे पर तीनों सेना, कोस्ट गार्ड, एनडीआरएफ समेत राहत और बचाव दलों को तैनात किया गया है।

ये भी पढ़ें: बिश्केक में चीनी राष्ट्रपति से मिले पीएम, जिनपिंग ने जीत की तो मोदी ने जन्मदिन की दी बधाई

cyclon

PM मोदी और राजनाथ सिंह बनाए हुए हैं नजर

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और रक्षामंत्री राजनाथ सिंह भी चक्रवाती तूफान वायु पर नजर बनाए हुए हैं। SCO सम्मेलन में हिस्सा लेने बिश्केक पहुंचे पीएम मोदी वहां से तूफान पर अपडेट ले रहे हैं। पीएम गुजरात सरकार से लगातार बातचीत कर रहे हैं।

वहीं, रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने गुरुवार को नौसेना और कोस्ट गार्ड के अधिकारियों से संपर्क कर इस चक्रवात की तैयारियों का जायजा लिया। स्थानीय प्रशासन और एनडीआरएफ की टीमें हर स्थिति पर कड़ी नजर बनाए हुए हैं।

ये भी पढ़ें: पश्चिम बंगाल में राजनीतिक बवाल पर राज्यपाल ने बुलाई सर्वदलीय बैठक

cyclon

135-160 किमी प्रति घंटे की रफ्तार

भारतीय मौसम विभाग ने बताया कि चक्रवाती तूफान वायु गुजरात से नहीं टकराएगा। यह वेरावल, पोरबंदर, द्वारका को छूकर निकल जाएगा। हालांकि 135-160 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से हवा चलेंगी। इसका असर तटीय क्षेत्रों पर दिखेगा। फिलहाल गुजरात में हवाओं की रफ्तार काफी तेज है।

cyclon

ट्रेनें, हवाई यातायात और बसें प्रभावित

तूफान वायु से 110 ट्रेनें प्रभावित हुई हैं। रेलवे ने तटीय इलाके में जाने वाली कई ट्रेनों को रद्द कर दिया है। जबकि कई ट्रेनों के रूट डायवर्ट कर दिए गए हैं। सराकर ने गुजरात तट के नजदीक स्थित सभी बंदरगाहों और हवाई अड्डों पर अस्थायी रूप से कामकाज बंद कर दिया है।

ऐहतियाती कदम के तौर पर सौराष्ट्र क्षेत्र के सभी हवाई अड्डे भी चक्रवात समाप्त होने तक बंद करने का फैसला किया गया है। एयरपोर्ट्स अथॉरिटी ऑफ इंडिया ने बयान जारी कर कहा कि पोरबंदर, दीव, भावनगर, केशोद और कांडला एयरपोर्ट पर विमानों का संचालन बंद रखा गया है। वहीं, अागामी आदेश तक तीर्थस्थलों के लिए बस सेवाएं भी रद्द कर दी गई हैं।

train

दमन के समंदर में उठ रहीं ऊंची लहरें

सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए दमन के समुद्री बीच पर जाने पर रोक लगा दी गई है। वायु तूफान का असर समंदर और आसपास के क्षेत्रों पर पड़ रहा है। लहरें उफान पर हैं और तेज हवाएं सबको डरा रही हैं। समुद्र किनारे जाने वाले सभी रास्तों को बेरिकेड्स से सील कर दिया गया है। प्रशासन ने समंदर की ऊंची-ऊंची लहरें देखने आने वाले लोगों को दूर से देखने को कहा है।

cyclon vayu

हेल्पलाइन नंबर जारी

लोगों की मदद के लिए जिला प्रशासन और एनडीआरएफ ने हेल्पलाइन नंबर जारी किए हैं। एनडीआरएफ का हेल्पलाइन नंबर- 91-9711077372 है। तूफान प्रभावित जिलों के लिए हेल्पलाइन नंबर इस प्रकार हैं-

- जामनगर कंट्रोल रूम नंबर- 0288-2553404

- द्वारका कंट्रोल रूम नंबर- 02833-232125

- पोरबंदर कंट्रोल रूम नंबर- 0286-2220800

- दाहोद कंट्रोल रूम नंबर- 02673-239277

- नवसारी कंट्रोल रूम नंबर- 02637-259401

- पंचमहल कंट्रोल रूम नंबर- 02672242536

- छोटा उदयपुर कंट्रोल रूम नंबर- 02669233021

- कच्छ कंट्रोल रूम नंबर- 02832-250080

- राजकोट कंट्रोल रूम नंबर- 0281-2471573

- अरावली कंट्रोल रूम नंबर- 02774250221

Show More
Prashant Jha
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned