चक्रवाती तूफान: सुबह 10 बजे गुजरात तट से टकराएगा 'वायु' , सेना-NDRF अलर्ट पर

चक्रवाती तूफान: सुबह 10 बजे गुजरात तट से टकराएगा 'वायु' , सेना-NDRF अलर्ट पर

Shiwani Singh | Publish: Jun, 12 2019 05:05:22 PM (IST) | Updated: Jun, 13 2019 08:16:53 AM (IST) इंडिया की अन्‍य खबरें

  • महाराष्ट्र में दिखा 'वायु चक्रवात' का असर, राज्य में भारी बारिश
  • द्वारका और वेरावल के बीच 155-165 किमी की रफ्तार से गुजरेगा चक्रवात
  • गुजरात सरकार ने जारी किया हाई अलर्ट

नई दिल्ली। अरब सागर में हवा के कम दबाव की स्थिति गहराने की वजह से उत्पन्न चक्रवात ‘वायु' (Cyclone Vayu) महाराष्ट्र से गुजरात की ओर बढ़ रहा है। मौसम विभाग के मुताबिक 'वायु' चक्रवाती तूफान के 13 जून को गुजरात के तटीय इलाकों पोरबंदर और कच्छ क्षेत्र में पहुंचने की संभावना है। सुबह 9 बजे तूफान गुजरात के तट से टकराएगा। हालात से निपटने और तकरीबन 3 लाख लोगों का रेस्क्यू कराने के लिए सेना और एनडीआरएफ पूरी तरह से तैयार है। राज्य सरकार ने हाई अलर्ट जारी कर दिया है। वहीं, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ट्वीट कर 'वायु' चक्रवाती तूफान से प्रभावित लोगों की सुरक्षा के लिए प्रार्थना और अपील की है। उन्होंने हर संभव मदद का विश्वास दिलाया है।

पीएम नरेंद्र मोदी ने ट्वीट करते हुए लिखा, 'वायु चक्रवात से प्रभावित लोगों की सुरक्षा के लिए प्रार्थना करता हूं। सरकार और स्थानीय प्रसाशन की ओर से साइक्लोन से जुड़ी हर सूचना लोगों तक पहुंचाई जा रही है। मुझे उम्मीद है कि प्रभावित इलाके में रहने वाले लोग इसे फॉलो करेंगे।'

तूफान अपडेट्स:-

गुजरात के 9 जिलों पर तूफान का खतरा ज्यादा

सुबह 10 बजे तट से टकराएगा तूफान वायु

वेरावल से 250 किमी और पोरबंदर में 300 किमी दूर है वायु चक्रवात

द्वारका और वेरावल के बीच 155-165 किमी की रफ्तार से गुजरेगा चक्रवात

 

ndr

बचाव अभियान शुरू

चक्रवाती तूफान वायु से बचने के लिए गुजरात में एनडीआरएफ ने बचाव अभियान शुरू कर दिया है। कच्छ में समुद्र तट के पास रहने वाले स्थानीय लोगों और मछुआरों को एनडीआरएफ के जवानों ने सुरक्षित जगहों पर पर पहुंचाया है। निचले इलाकों से लगभग 1.2 लाख लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया गया है। शाम तक 3 लाख लोगों को सुरक्षित जगहों पर भेज दिया जाएगा। दीव क्षेत्र में 10000 से अधिक लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया गया है। इसके अलावा वलसाड में भी वायु चक्रवात को देखते हुए अलर्ट जारी किया गया है। दूरसंचार विभाग ने दूरसंचार सेवा प्रदाताओं को बिना किसी अतिरिक्त शुल्क के इंटर-सर्कल रोमिंग की अनुमति देने के आदेश जारी किए हैं।

स्कूल और कॉलेज बंद

gujarat

'वायु' चक्रवाती तूफान को देखते हुए प्रभावित क्षेत्रों में एहतियात के तौर पर तटीय इलाके के पास स्थित गांवों में स्कूलों को दो दिन (12 और 13 जून) के लिए बंद कर दिया गया है। फायर डिपार्टमेंट के साथ ही रेस्क्यू टीम को भी अलर्ट पर रखा गया है। तटीय क्षेत्रों में मछुआरों को अगले कुछ दिनों तक समुद्र में नहीं जाने की सलाह दी गई है।

कुछ रूट पर ट्रेनें रद्द

 

train

वायु चक्रवाती तूफान के मद्देनजर वेस्टर्न रेलवे ने कुछ रूट्स पर ट्रेनें रद्द कर दी हैं। पोरबंदर, भावनगर, भुज, वेरावल, ओखा और गांधीधाम स्टेशनों की ओर शाम के बाद 14 जून की सुबह तक ट्रेनों का संचालन रद्द रहेगा। लेकिन लोगों को रेस्क्यू में मदद पहुंचाने के लिए इन सभी स्टेशनों पर एक-एक स्पेशल ट्रेन मौजूद रहेगी। इसके अलावा वेस्टर्न रेलवे ने लोगों को निकालने के लिए बुधवार को ओखा स्टेशन से दो स्पेशल ट्रेेनें चलाने का फैसला किया है।

हवाई सेवाएं भी प्रभावित

'वायु' का असर हवाई सेवाओं पर भी देखने को मिल रहा है। गुरुवार को सरदार वल्लभ भाई पटेल अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे से कुछ शहरों के लिए विमान सेवाओं पर रोक लगा दी गई है। पोरबंदर, दीव, कांधला, मुंद्रा और भावनगर के लिए गुरुवार को विमान सेवाएं रद्द कर दी गई हैं, जो बुधवार मध्यरात्रि से लेकर गुरुवार आधी रात तक रहेगी।

सेना की 10 टुकड़ियां तैनात

army-ndrf

गुजरात सरकार ने रेस्क्यू ऑपरेशन में मदद के लिए सेना की 10 टुकड़ियों को पश्चिमी तट पर तैनात किया है। जिसमें जामनगर, गिर, द्वारका, पोरबंदर, सोमनाथ, मोरबी, भावनगर, राजकोट और अमरेली में सेना के जवानों को लगाया गया है। इसके अलावा राहत और बचाव कार्य में मदद के लिए सेना की 24 टुकड़ियों को तैयार रहने को कहा गया है। बता दें कि सेना की इन 10 टुकड़ियों में सेना की इंफैंट्री, आर्टिलरी, सिग्नल, इंजिनियर्स और मेडिकल कॉर्प्स के जवान शामिल हैं।

मौसम विभाग की चेतावनी

vayu

मौसम विभाग ने 'वायु' के मद्देनजर सौराष्ट्र और कच्छ के तटीय इलाकों में 13 और 14 जून को भारी बारिश होने की संभावना जतााई है। वायु चक्रवात की रफ्तार 110 से 135 किमी प्रति घंटे तक हो सकती है। जिसे देखते हुए गुजरात सरकार ने भी हाई अलर्ट जारी कर दिया है।अभी चक्रवात अपनी वर्तमान स्थिति से उत्तर की ओर (कोंकण तट से) सौराष्ट्र के पोरबंदर और महुवा के बीच बढ़ रहा है।

सौराष्ट्र के 10 जिलों के 408 गांव प्रभावित

वायु का असर सौराष्ट्र में भी देखने को मिलेगा। तूफान से यहां की कुल 60 लाख आबादी के प्रभावित होने की संभावना है। गुजरात के डेप्युटी सीएम नितिन पटेल ने मीडिया से बात करते हुए बताया कि सौराष्ट्र इलाके के 10 जिलों के 408 गांवों में रहने वाले तकरीबन 60 लाख लोग चक्रवात से प्रभावित हो सकते हैं।

बुलाई गई उच्च स्तरीय बैठक

वहीं, बुधवार को केंद्रीय गृह सचिव राजीव गौबा ने चक्रवात 'वायु ’ से उत्पन्न स्थिति से निपटने के लिए उच्च स्तरीय बैठक बुलाई। इस बैठक में संबंधित राज्य और केंद्रीय मंत्रालयों और एजेंसियों की तैयारियों की समीक्षा की गई। बैठक में गृह मंत्रालय, रक्षा मंत्रालय, दूरसंचार विभाग, विद्युत मंत्रालय, स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय, राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन प्राधिकरण, एकीकृत रक्षा कर्मचारी, भारत मौसम विज्ञान विभाग और राष्ट्रीय आपदा प्रतिक्रिया बल के वरिष्ठ अधिकारियों ने भाग लिया। गुजरात के मुख्य सचिव और दीव के सलाहकार वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से भी जुड़े थे। इस दौरान उन्होंने चक्रवाती तूफान से निपटने के लिए तैयार किए गए उपायों के बारे में अवगत कराया।

केंद्रीय गृह सचिव ने संबंधित अधिकारियों को सभी एहतियात बरतने के निर्देश दिए हैं, ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके की किसी भी तरह के जान-माल का नुकसान ना हो। उन्होंने राहत शिविरों में आवश्यक भोजन, पेयजल और दवाइयां उपलब्ध कराने और बिजली, दूरसंचार, स्वास्थ्य इत्यादि जैसी सभी आवश्यक सेवाएं सुनिश्चित करने से संबंधित व्यवस्था की समीक्षा भी की।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned