Visakhapatnam: दवा कंपनी में Benzimidazole गैस लीक, अब तक 2 की मौत, मची अफरा-तफरी

  • Visakhapatnam: फार्मा कंपनी ( Pharma Companie ) की ईकाई में जहरील गैस लीक
  • Benzimidazole गैस रिसाव कांड मे दो मजदूरों की मौत
  • दो महीने पहले केमिकल प्लांट से जहरीली स्टाइरीन गैस ( Styrene Gas ) लीक हुई थी

नई दिल्ली। आंध्र प्रदेश ( Andra Pradesh ) के विशाखापट्टनम ( Visakhapatnam ) में एक बार फिर जहरीली गैस लीक ( Gas Leaked In Vizag ) की घटना सामने आई है। बताया जा रहा है कि इस हादसे में दो लोगों की मौत हो गई है, जबकि चार लोग फिलहाल हॉस्पिटल ( Hospital ) में भर्ती हैं। इस घटना से इलाके में हड़कंप मच गया है। हालाकि, स्थिति पर काबू पा लिया गया है।

Visakhapatnam में फिर जहरीली गैस रिसाव

जानकारी के मुताबिक, गैस रिसाव ( Gas Leaked In Vizag Today ) की घटना सोमवार देर रात की है। सीनियर पुलिस ऑफिसर उदय कुमार ( Uday Kumar ) का कहना है कि हमें रात साढ़े ग्यारह बजे गैस रिसाव की खबर मिली थी। जब हम मौके पर पहुंचे तो गैस रिसाव से दो मजदूरों की मौत ( Two Labourers Dies ) हो चुकी थी। जबकि, चार लोग घायल थे जिन्हें तुरंत हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया। उन्होंने कहा कि गनीमत ये रही कि गैस कहीं बाहर नहीं फैली। उनका कहना था कि जिन लोगों की मौत हुई, वे लीकेज स्थान पर मौजूद थे। वहीं, तुरंत मौके पर राहत-बचाव कार्य चलाया गया और स्थिति पर नियंत्रण पा लिया गया। रिपोर्ट में कहा गया है कि जिन दो लोगों की मौत हुई है, वे इसी कंपनी में काम करते थे। अधिकारियों का कहना है कि प्लांट में बेंज़ीमिडजोल (benzimidazole) गैस का रिसाव हुआ था। वहीं, एहतियात के तौर पर परवाडा इलाके में स्थित फार्मा कंपनी ( Pharma Companie ) की इकाई को बंद कर दिया गया था। वहीं, मुख्यमंत्री ( CM ) जगनमोहन रेड्डी ( Jaganmohan Reddy ) ने इस घटना को लेकर रिपोर्ट मांगी है।

दो महीने में दूसरी घटना

गौरतलब है कि दो महीने में विशाखापट्टनम में गैस रिसाव ( Gas Leaked In Visakhapatnam ) की यह दूसरी घटना है। कुछ समय पहले विशाखापट्टनम में एक केमिकल प्लांट ( Chemical Plant ) में गैस की लीक होने की घटना सामने आई थी। इस गैस लीक कांड में 11 लोगों की मौत हो गई थी। जबकि, तकरीबन 1,000 से ज्यादा लोग बीमार पड़ गए थे। यहां आपको बता दें कि LG केमिकल प्लांट से जहरीली स्टाइरीन गैस ( Styrene Gas ) लीक हुई थी। इस गैस रिसाव कांड में लोग सड़कों और नालों में गिर पड़े थे। आस-पास के कई गांवों को खाली करा दिया गया था। इतना ही नहीं अधिकारियों ने एक-एक घर में जाकर पीड़ितों का पता लगाया था।

Kaushlendra Pathak Content
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned