तीन हिंदुस्तानी शख्सियतों की सवारीः सबसे सुरक्षित और अत्याधुनिक Air India One की डिलीवरी टली

  • भारत के राष्ट्रपति, उप-राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री के लिए निर्मित विशेष विमान।
  • बोईंग B777-ER अत्याधुनिक डिफेंस, कम्यूनिकेशन और लग्जरी से है लैस।
  • भारतीय वायुसेना के हाथ में होगा नियंत्रण, अमरीका ने तकनीकी कारणों से रोकी डिलीवरी।

नई दिल्ली। राष्ट्रपति, उपराष्ट्रपति और प्रधानमंत्री के विशेष इस्तेमाल के लिए वीवीआईपी विमान एयर इंडिया वन की मंगलवार को होने वाली डिलीवरी टल गई है। सूत्रों के मुताबिक संयुक्त राज्य अमरीका ने तकनीकी कारणों के चलते इस विमान की भारत में डिलीवरी स्थगित कर दी।

कस्टमाइज्ड विशालकाय VVIP बोइंग 777-300ERs को मंगलवार को भारत पहुंचना था। शीर्ष सरकारी सूत्रों के अनुसार संयुक्त राज्य अमरीका में इस स्पेशल एक्स्ट्रा सेक्शन फ्लाइट (एसईएसएफ) या वीवीआईपी विमान एयर इंडिया वन की डिलीवरी लेने के लिए एयर इंडिया के वरिष्ठ अधिकारी, सुरक्षा अधिकारी और वरिष्ठ सरकारी अधिकारी पहले ही पहुंच गए थे।

दो बोइंग-777 ER विमानों में से एक अगस्त में भारत में डिलीवरी के लिए तैयार है, जिसे विशेष रूप से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद और उपराष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू के लिए डिज़ाइन किया गया है। दो कस्टम-मेड B-777 विमान विशेष रूप से भारत के प्रधानमंत्री, राष्ट्रपति और उप-राष्ट्रपति के लिए इस्तेमाल किए जाते हैं।

सूत्रों के मुताबिक, "एयर इंडिया वन एडवांस्ड और सिक्योर कम्यूनिकेशन सिस्टम से लैस है जो बिना हैक किए या टैप किए हवा में ऑडियो और वीडियो कम्यूनिकेशन फ़ंक्शन का इस्तेमाल करने का मौका देता है।"

VVIP विमान B-777 विशालकाय विमान बोइंग B747 जंबो विमान की जगह लेगा, जिसे AIR INDIA ONE के नाम से पुकारा जाएगा। नया विमान अत्यधिक एडवांस्ड और कस्टमाइज्ड एयरक्राफ्ट है। विमान की आंतरिक डिजाइन बहुत ही आकर्षक है, जिसे हाल ही में बोइंग द्वारा मॉडीफाइड किया गया था।

सूत्रों ने बताया, "विमान का इंटीरियर काम पूरा हो गया है। इसमें वीवीआईपी के लिए एक बड़ा सूट/केबिन है। विमान के भीतर मिनी मेडिकल सेंटर स्थापित किया गया है और विमान में प्रेस कॉन्फ्रेंस के लिए भी विशेष स्थान है। पीछे की सीटें इकोनॉमिक क्लास की हैं जो आरामदायक और पर्याप्त जगह वाली हैं, जबकि बाकी सीटें बिजनेस क्लास हैं। B777 विमान लगातार 17 घंटे उड़ान भर सकता हैं।

एयर इंडिया यह विमान प्राप्त करेगा और बाद में इसे भारतीय वायु सेना (IAF) को सौंप देगा। इसके बाद नए विमान डी-पंजीकृत करने के बाद और नए पंजीकरण एसओपी को इस प्रक्रिया में रखा जाएगा क्योंकि वीवीआईपी विमान भारतीय वायुसेना के तहत काम करेंगे। एयर इंडिया के पायलट भी विशेषज्ञता पूरी होने तक विमान का हिस्सा होंगे। विमान का रखरखाव अपरिवर्तित रहेगा और इसकी देखभाल एयर इंडिया इंजीनियरिंग सर्विसेज लिमिटेड (AIESL) करेगा।

वीवीआईपी गेस्ट के लिए बना नया बोइंग 777 विमान एडवांस डिफेंस सिस्टम से भी लैस है और वायुसेना के पायलटों द्वारा संचालित किया जाएगा। एयर इंडिया B777 का विमान के अंदर और बाहर का मूल रंग पूरी तरह से बदल गया है, विमान का रंग और डिजाइन प्रधानमंत्री कार्यालय (पीएमओ) द्वारा स्वीकृत किया गया था।

Show More
अमित कुमार बाजपेयी
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned